व्यापार

राजकोषीय घाटे को 3.3 प्रतिशत तक सीमित रखने को हम प्रतिबद्ध: गोयल

राजकोषीय घाटे को 3.3 प्रतिशत तक सीमित रखने को हम प्रतिबद्ध: गोयल

वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि सरकार चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटे को 3.3 प्रतिशत तक सीमित रखने के लक्ष्य को हासिल करने के लिए प्रतिबद्ध है। चालू वित्त वर्ष (2018-19) के बजट में राजकोषीय घाटे को सकल घरेलू उत्पाद (जी.डी.पी.) के 3.3 प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य है।

गोयल ने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था की मजबूती बनाए रखेगी और हम (सरकार) द्वारा तय सभी आर्थिक मानकों को पूरा करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘मैं यह भरोसा दिलाता हूं कि चुनावी वर्ष होने के बावजूद हम राजकोषीय घाटे को 3.3 प्रतिशत तक सीमित रखने के लक्ष्य को हासिल करेंगे।’’ वर्ष 2017-18 में राजकोषीय घाटा 3.53 प्रतिशत था, जो सरकार के संशोधित अनुमान के अनुरूप ही रहा। वर्ष के दौरान राजस्व घाटा जी.डी.पी. के 2.65 प्रतिशत के बराबर रहा। गोयल सार्वजनिक क्षेत्र के 13 बैंकों के प्रमुखों के साथ कल बैठक करेंगे। बैठक का मकसद बैंक क्षेत्र से जुड़े संबंधित मुद्दों का समाधान करना है।

चौथी तिमाही में दहाई अंक में पहुंच सकती है वृद्धि दर
गोयल ने कहा कि मांग में वृद्धि को देखते हुए चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में देश की आर्थिक वृद्धि दर दहाई अंक में पहुंच सकती है। उन्होंने कहा कि सरकार ने कारोबार सुगमता और अर्थव्यवस्था की स्थिरता के लिए कई कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मेरे हिसाब से सरकार कारोबार करने को सुगम बनाने का प्रयास कर रही है। वास्ताव में इसे ईमानदार कारोबार के लिए आसान बना रही है और जब यह देश ईमानदारी के साथ कारोबार करने वाला देश होगा तब इसमें 10 प्रतिशत से अधिक वृद्धि हमें मिलेगी।’’

Leave a Comment