मनोरंजन

पलटन : 1965 में भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट की शौर्य और साहस की कहानी…

पलटन : 1965 में भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट की शौर्य और साहस की कहानी…

मुंबई। बॉलीवुड फिल्म ‘पलटन’ आज सिनेमाघरो में रिलीज हो गई है। शूटिंग रियल लोकेशन की है। 1965 में भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट ने शौर्य और साहस की अनूठी मिसाल पेश करते हुए नाथुला दर्रे में चीनी सेना को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया था। पलटन में इसी कहानी का फिल्मांकन है।

1962 में भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ था और इसमें हमें शिकस्त मिली थी। इसके करीब तीन साल बाद LAC यानी लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल के करीब ‘नाथुला पास’ पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच छोटी जंग हुई थी। दरअसल, नाथुला दर्रा ही वह स्थान है जहां से भारत और तिब्बत जुड़ते हैं। यहीं से सिक्किम का भी कनेक्शन है। चीनी सेना इस पर कब्जा करना चाहती है। यहां तैनात भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट दुश्मन को करारी शिकस्त देती है।

इस फिल्म में सोनू सूद मेजर बिशन सिंह और अर्जुन रामपाल मेजर राय सिंह के रोल में नजर आते हैं। हर्षवर्धन राणे और गुरमीत सिंह भी हैं। इसके अलावा सिद्धांत कपूर और लव सिन्हा के भी छोटे रोल हैं। जैकी श्रॉफ के चाहने वाले उन्हें नए अंदाज में देखकर निराश नहीं होंगे। जहां तक एक्टिंग की बात है तो अर्जुन रामपाल ने शानदार अभिनय किया है। सोनू सूद को भी आप इस रोल में पसंद करेंगे।

आमतौर पर जेपी. दत्ता की फिल्मों का संगीत इनकी रिलीज के काफी पहले ही हिट हो जाता है। मसलन बॉर्डर के गीत आज भी बड़े चाव से सुने जाते हैं। पलटन के संगीत में वो बात नजर नहीं आती। लेकिन, फिल्म की सच्ची कहानी और इसका रियल लोकेशन पर शूट किया जाना प्लस प्वॉइंट हैं। फिल्म आपको बांधे रखती है। हालांकि, कुछ जगहों पर सीन लंबे हैं।

Leave a Comment