हेल्थ

विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया का खतरा दोगुना

विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया का खतरा दोगुना

लंदन: अधेड़ावस्था में शारीरिक रूप से फिट रहने वाली स्त्रियों में बाद के दिनों में डिमेंशिया या भूलने की बीमारी की संभावना 90 फीसदी तक कम हो जाती है शोधकर्ताओं का कहना है कि खुद पर कम ध्यान देने वाली स्त्रियों की तुलना में अच्छी तरह चुस्त- दुरूस्त रहने वाली स्त्रियों को औसतन 11 वर्ष बाद इस बीमारी का सामना करना पड़ता है इस तरह कम फिटनेस की स्थिति में 79 की आयु में इसका सामना करना पड़ता है जबकि स्वास्थ्य के प्रति जागरूक स्त्रियों को 90 साल की अवस्था में इससे जूझना पड़ता है

स्वीडन में गुटेनबर्ग विश्वविद्यालय की हेलेना होर्डर ने बोला कि ये नतीजे बेहद उत्साहजनक हैं क्योंकि अधेड़ावस्था में फिटनेस पर ध्यान देने से डिमेंशिया बीमारी के बढ़ने की गति कम हो सकती है या इसमें देरी हो सकती है होर्डर ने बोला कि अभी  अध्ययन किये जाने की आवश्यकता है ताकि देखा जा सके कि तंदुरूस्ती से डिमेंशिया के खतरे परकितना सकारात्मक प्रभाव पड़ता है यह अध्ययन पत्रिका न्यूरोलॉजी में प्रकाशित हुआ है  

 

बुजुर्ग लोगों में विटामिन डी के निचले स्तर से डिमेंशिया  अल्जाइमर के विकसित होने का खतरा दोगुना हो सकता है यह बात एक अध्ययन में पाई गई है अध्ययन में शामिल जिन लोगों में विटामिन डी की कमी थी, उनमें डिमेंशिया  अल्जाइमर की बीमारी पनपने की आसार दोगुने से भी ज्यादा थी शोधकर्ताओं ने उन बुजुर्ग अमेरिकी नागरिकों का अध्ययन किया था

रिसर्च में पाया गया जिन व्यस्कों में विटामिन डी की कमी थोड़ी सी ही थी, उनमें किसी भी तरह का डिमेंशिया पैदा होने का खतरा 53 फीसदी था वहीं जिनमें विटामिन डी कमी का स्तर गंभीर था, उनमें यह खतरा 125 फीसदी था ऐसे ही नतीजे अल्जाइमर बीमारी के बारे में भी पाए गए कम कमी वाले समूह में इस बीमारी का खतरा 69 फीसदी था जबकि गंभीर रूप से विटामिन डी की कमी वाले लोगों में इसका फीसदी 122 फीसदी था इस अध्ययन में 65 साल  उससे ज्यादा आयु के उन 1,658 व्यस्कों का अध्ययन किया गया था

Article विटामिन डी की कमी से डिमेंशिया का खतरा दोगुना took from Poorvanchal Media Group.

Leave a Comment