हेल्थ

… जब मोदी का ध्यान देख, विपक्ष की उड़ी नींद

… जब मोदी का ध्यान देख, विपक्ष की उड़ी नींद

New Delhi/Aliv News : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इंडिया को फिट रखने के लिए अलग-अलग योग और ध्‍यान मुद्राओं से सोशल मीडिया के माध्‍यम से लोगों को जागरूक कर रहे हैं। आगामी 21 जून को चौथा अंतर्राष्‍ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। जिसको ध्‍यान में रखते हुए पीएम लगातार अपने ट्विटर अकाउंट पर विभिन्‍न प्रकार के योगासन के वीडियो एनिमेशन प्रारूप में लोगों के साथ साझा कर रहे हैं। इस श्रंखला को आगे बढ़ाते हुए उन्‍होंने सोमवार को ध्‍यान मुद्रा के बारे में बताया है। ध्‍यान क्‍या है और कैसे किया जाता है? ये सब आप उनके इस वीडियो में सीख सकते हैं। इसके अलावा ध्‍यान मुद्रा के फायदों के बारे में भी बताया गया है।

ध्‍यान क्‍या है
ध्‍यान या मेडिटेशन सतत चिंतन की एक कला है। ध्‍यान में मुख्‍य रूप से तीन बातों का समावेश है। 1- बाहरी वस्‍तुओं और आंतरिक अवस्‍थाओं से अनभिज्ञ हो जाना। 2- उस वस्‍तु पर निरंतर जागरूकता, जिस पर ध्‍यान केंद्रित किया गया है। 3- दूसरे मानसिक परिवर्तनों पर सहज रोग या प्रभावित न होना। ध्‍यान आपको शांति और आंतरिक सद्भाव खोजने में मदद करता है।

ध्‍यान कैसे करें
ध्‍यान करने के लिए इसका तरीका आपको पता होना चाहिए। सही तरीके से किया गया ध्‍यान आपको सही परिणाम देगा।
इसे करने के लिए सबसे पहले आप पद्मासन में बैठ जाएं जोकि एक ध्‍यानात्‍मक आसन है। इसके अलावा आप ध्‍यान सुखासन या वज्रासन में भी बैठकर कर सकते हैं।
जो लोग जमीन पर बैठने में असमर्थ हैं वह कुर्सी पर बैठकर कर अभ्‍यास कर सकते हैं।
पद्मासन में बैठन के दौरान यह सुनिश्चित करें कि आपका पॉश्‍चर बिल्‍कुल सही होना चाहिए। यानी आपका मेरूदण्‍ड बिल्‍कुल सीधा होना चाहिए। अपने मेरूदण्‍ड को सीधा रखने में आप दीवार का सहारा ले सकते हैं।

भुजाएं, कंधे ढीले हों और सिर हल्‍का सा ऊंचा और आंखे बंद हों।
अब अपने हाथों को ध्‍यान मुद्रा में लाने के लिए सुनिश्चित करें कि आपकी उंगलियां आपस में जुड़ी हुई हों।
अब अपनी बांयी हथेली को पेट के पास लाते हुए अपनी बांयी टांग पर रखें और दांयी हथेली को बांयी हथेली के ऊपर रखें। ये ध्‍यान मुद्रा है

ध्‍यान के दौरान क्‍या करें
सुनिश्चित करें कि आपका पूरा शरीर तनाव मुक्‍त यानी आरामदायक स्थिति में हो। सिर से लेकर पांव तक अपने शरीर के प्रति जागरूकता बनाएं। यह आपका ध्‍यान बाहरी वस्‍तुओं और विकृति से दूर करेगा और अंदर की ओर आकर्षित करेगा।
अब आप सांस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया की ओर जागरूकता बनाएं। अपनी सांसे धीमी और गहरी रखें। इस प्रक्रिया को तब तक जारी रखें जब तक कि आपकी सांसे कम न हो जाएं।
बिना किसी वस्‍तु पर विशेष ध्‍यान रखते हुए सिर्फ अपनी भौहों पर हल्‍का सा ध्‍यान दें। और अपनी आती जाती सांसों को महसूस करें।
अब अपना मन अपने विचारों की ओर ले जाएं और पवित्र और निर्मल विचारों के साथ रहने का प्रयास करें।
जैसे ही आप ध्‍यान में लीन हो जाएंगे आपका मन शांत हो जाएगा। आपकी मानसिक गतिविधि कम हो जाएगी। आपके विचार खत्‍म हो जाएंगे। आप पूरी तरह से चिंता और तनाव से मुक्‍त होकर आराम महसूस करेंगे। ध्‍यान योगाभ्‍यास का सबसे महत्‍वपूर्ण और अभिन्‍न अंग है। इसलिए इस स्थिति में सामान्‍य स्थिति में सांस लेते और छोड़ते हुए जितने समय तक संभव हो उतने समय तक बैठे रहें।

ध्‍यान करने के फायदे
ध्‍यान आपके शरीर और मस्तिष्‍क को नवजीवन प्रदान करता है।
ध्‍यान आपको नकारात्‍मक विचारों से दूर रखता है।
यह क्रोध, भय और चिंता, अवसाद से दूर रखते है।
ध्‍यान आपके जीवन की गुणवत्‍ता में सुधार लाता है।
आपकी एकाग्रता बढ़ाने में मदद करता है।
सकारात्‍कमक विचार और भावनाएं विकसित करता है।
यह आपको अधिक उत्‍पादक बनने में सफल बनाता है।
नियमित रूप से ध्‍यान का अभ्‍यास करने से आप अपने जीवन में परिवर्तन देख

Leave a Comment