बिहार

डबल मर्डर – पुलिस मुख्यालय की नजर, आईजी ने गठित किया एसएसपी के नेतृत्व में एसआईटी

डबल मर्डर – पुलिस मुख्यालय की नजर, आईजी ने गठित किया एसएसपी के नेतृत्व में एसआईटी

डबल मर्डर – पुलिस मुख्यालय की नजर, आईजी ने गठित किया एसएसपी के नेतृत्व में एसआईटी

>> सीआईडी की टीम भी छानबीन में जुटी ,ब्लाइंड केस को जल्द सुलझाने का दावा
>> फॉरेंसिक टीम ने घटना स्थल पर जांच कर, साक्ष्य किया इकट्ठा
>> एसएसपी के टीम ने कई संदिग्ध को लिया हिरासत में, पूछताछ में जुटी पुलिस

रवीश कुमार मणि

पटना ( अ सं ) । राजधानी में ब्लाइंड, डबल मर्डर केस पर पुलिस मुख्यालय गंभीर हैं और कार्रवाई पर निगरानी रखें हुये हैं । एडीजी मुख्यालय ,एस के सिंघल ने बताया की जोनल आईजी नैय्यर हसनैन खां ने एसएसपी मनु महाराज के नेतृत्व में एसआईटी गठित किया हैं । इसमें पटना के तीन डीएसपी सहित ,चार थानाध्यक्ष को शामिल किया गया हैं । एडीजी एस के सिंघल ने दावा किया हैं की जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा ,एवं घटना में शामिल अपराधियों को पुलिस गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे डालेंगी।
बुद्धा कालोनी थाना अंतर्गत दुजरा में रिटायर्ड सेक्रेटरी दंपती हरेन्द्र प्रसाद और उनकी पत्नी साधना देवी की बंद घर में मिली लाश ने राजधानी में सनसनी फैला कर रख दिया हैं । विरोधी दलों के निशाने पर सरकार हैं तो पुलिस मुख्यालय हर हाल में मामले का जल्द से जल्द खुलासा करना चाहती हैं । यहीं कारण हैं की ब्लाइंड केस को सुलझाने के लिए सीआईडी टीम को मामले के पीछे लगा दिया हैं । फॉरेंसिक टीम ने घटना स्थल पर जाकर साक्ष्य इकट्ठा किया हैं ।
जोनल आईजी नैय्यर खां ने घटना की पुरी जानकारी लेते हुये एसएसपी मनु महाराज के नेतृत्व में एसआईटी गठित किया हैं । इसमें तीन डीएसपी सहित चार थानाध्यक्ष को शामिल किया गया हैं । एसएसपी मनु महाराज के नेतृत्व में एसआईटी ने छापेमारी शुरू कर दिया हैं । कई को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया हैं । आईजी ,एसआईटी की कार्रवाई पर स्वयं निगरानी रखें हुये हैं ।
सुत्रों की मानें तो यह घटना ,घर का अपराध प्रतीत हो रहा हैं । इस घटना को अंजाम देने के लिए अपराधियों को हायर किया गया हैं । ऐसी प्रबल सम्भावना हैं । दंपती के शरीर पर कई जगहों पर जख्म के निशान पाया गया हैं ।इससे स्पष्ट हैं की अपराधियों ने पहले मारपीट किया ,इसके बाद गला दबाकर हत्या किया होगा । इस घटना नें कम से कम तीन से चार अपराधी से कम नहीं होंगे । एक बात और अपराधी चाहे जो भी हो वह दंपती के घर गतिविधियों को जानता था और घटना को अंजाम देने के लिए फूल प्रुफ योजना तैयार किया होगा । पुलिस में गुमराह करने के लिए अपराधियों ने लूट का शक्ल देते हुये घर के चीजों तो बिखेर दिया होगा । सबसे गौर करने वाली बात तो यह है की कोई भी 88 वर्ष का वृद्ध व्यक्ति और 72 वर्ष की वृद्ध महिला किसी अपराधी को विरोध नहीं कर सकती ।

Leave a Comment