दिल्ली

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में 4.8 लाख कुशल उम्मीदवार

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में 4.8 लाख कुशल उम्मीदवार

नई दिल्ली: असंगठित कार्यबल को मुख्यधारा में लाने और उनके कौशल को बेहतर बनाने के उद्देश्य से शुरू किया गया रिकॉग्निशन ऑफ प्रायर लर्निंग प्रोग्राम अपनी शुरूआत के दो सालों से भी कम समय में 4.8 लाख से अधिक लोगों को प्रमाणपत्र दे चुका है।

कौैशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय के संयुक्त सचिव एवं सीवीओ राजेश अग्रवाल ने कहा, आरपीएल प्रोग्राम ने भारत में 458 जि़लों को कवर किया, जिसमें राजस्थान के कालीन बुनकर, पश्चिमी बंगाल के चाय बागानों में काम करने वाले किसान तथा उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में रबड़ उगाने वाले किसान शामिल थे। अब तक 30 सेक्टरों में 185 जॉब रोल्स में उम्मीदवारों का नामांकन, मूल्यांकन और प्रमाणीकरण किया जा चुका है। आरपीएल एनएसक्यूएफ स्तर 2 एवं अधिक पर 2000 जॉब रोल्स के लिए खुला है।

आरपीएल प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का मुख्य अवयव है। इसके तहत निर्माण, मजदूरी, प्लम्बिंग, बढ़ईगिरी, योगा आदि में उम्मीदवारों के अनौपचारिक कौशल का मूल्यांकन किया जाता है, यानि वे सभी काम जो उन्होंने अपने परिवार से या जीवन के अनुभव से सीखे हों। आरपीएल प्रोग्राम के तहत उम्मीदवार को सॉफ्ट स्किल्स, उद्यमिता और वित्तीय साक्षरता में 12 घण्टे का ओरिएन्टेशन दिया जाता है।

कौशल प्रमाणपत्र के अलावा उम्मीदवारों को प्रोग्राम में हिस्सा लेने केे लिए रु 2800 का पुरस्कार भी दिया जाता है। इस प्रमाणपत्र का इस्तमेाल उनकी दक्षता के आधार पर आगे उच्च शिक्षा और अपग्रेडेेशन के लिए किया जा सकता है। इस प्रमाणपत्र की मदद से उम्मीदवार कई सरकारी योजनाओं जैसे प्रधानमंत्री बीमा योजना और प्रधानमंत्री मुद्रा योजन का लाभ भी उठा सकते हैं। आरपीएल के तहत कौशल भारत प्रमाणपत्र उम्मीदवारों को रिकॉग्निशन, कौशल के अपग्रेडशन के साथ आजीविका के अवसर भी प्रदान करता है।

Leave a Comment