दिल्ली

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बढ़ीं मुश्किलें, कांग्रेस लाएगी उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव

चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बढ़ीं मुश्किलें, कांग्रेस लाएगी उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा इन दिनों राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय बने हुए हैं। पिछले कई दिनों से कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों द्वारा उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाने को लेकर सुगबुगाहट चल रही है। मामले में कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बयान देते हुए कहा है कि इस बात में दम नहीं है। मुख्य न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग लाने के मामले में कांग्रेस ने न तो इससे इंकार किया है और न ही इस पर सहमति जताई है।

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस इस मामले में बेहद सावधानी से हर पहलू पर गौर करने के साथ-साथ अपना नफा-नुकसान मांपने के बाद ही कोई फैसला करेगी। जबकि इस मामले पर एनसीपी ने दावा किया है महाभियोग लाने की प्रक्रिया शुरु की जा चुकी है।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के कुछ नेताओं ने महाभियोग लाए जाने का किया दावा
जहां एक तरफ कांग्रेस इस मामले पर अपना रुख पूरी तरह स्पष्ट नहीं कर रही है। वहीं दूसरी तरफ एनसीपी कांग्रेस के नेता माजिद मेमन ने घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए कहा है कि सबसे बडी विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने देश के प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ महाभियोग की कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

अब तक कितने सांसदों ने नोटिस पर हस्ताक्षर किए हैं कि इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह हस्ताक्षरकर्ता भर हैं और यह प्रश्न कांग्रेस से किया जाना चाहिए। वहीं इस मामले पर राकंपा के एक अन्य सांसद डीपी त्रिपाठी ने कहा कि मैंने हस्ताक्षर किए हैं, दूसरे भी हस्ताक्षर कर रहे हैं और यह सिलसिला चल रहा है।

उन्होंने कहा कि यह केवल भ्रष्टाचार नहीं है, आरोप बेहद गंभीर हैं, और उस पत्र से यह प्रकट होता है, जो उच्चतम न्यायालय के चार वरिष्ठतम न्यायाधीशों ने पहले ही लिखा है कि न्यायपालिका की स्वतंत्रता को खतरा है। उन्होंने संभावना जताई है कि कांग्रेस के कुछ नेताओं ने भी इस पर हस्ताक्षर किए हैं।

नियम के मुताबिक सीजेआई के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पेश करने के लिए लोकसभा में 100 सांसदों के तथा राज्यसभा में 50 सदस्यों के हस्ताक्षर की आवश्यकता होती है।

विगत दिनों सुप्रीम कोर्ट के चार जजों द्वारा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा पर आरोप लगाने के बाद उनकी मुश्किलें बढ़ गईं हैं। जस्टिस जे चेलमेश्वर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसफ ने चीफ जस्टिस पर सवाल उठाते हुए देश लोगों से न्याय के सर्वोच्च मंदिर की रक्षा करने की अपील की थी।

चारों जजों ने मिश्रा पर मामलों को उचित पीठ को आवंटित करने के नियम का पालन नहीं करने का आरोप लगाया। सप्रीम कोर्ट के जज को उसके पद से हटाने के लिए उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाया जाता है।

Article चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बढ़ीं मुश्किलें, कांग्रेस लाएगी उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव took from Puri Dunia | पूरी दुनिया.

Leave a Comment