महाराष्ट्र

सोनी सब पर नया धारावाहिक ‘बीचवाले-बापू देख रहा है’

सोनी सब पर नया धारावाहिक ‘बीचवाले-बापू देख रहा है’

मुंबई- सोनी सब हमेशा अपने दर्शकों को खूबसूरत कहानी और हल्की-फुलकी काॅमेडी से भरपूर कंटेंट पेश करता रहा है। अपने ब्रांड के वादे हंसते रहो इंडिया के साथ ताल से ताल मिलाते हुए, सोनी सब चैनल अब एक और प्रस्तुति लेकर आ रहा है-‘बीचवाले-बापू देख रहा है’। ‘बीचवाले’ आजकल के मध्यमवर्गीय लोगों की कहानी है, जोकि अपनी इच्छाओं और मूल्यों के बीच में पिसता रहता है।

यह टीवी सीरियल जल्द सोनी सब पर प्रसारित होने जा रहा है। धारावाहिक की कहानी ‘बाॅबी बीचवाले’ के इर्द-गिर्द घूमती है।मुख्य किरदार जाने-माने अभिनेता जाक़िर हुसैन निभा रहे हैं । यह नायक संयुक्त परिवार के साथ दिल्ली में रहता है। बाॅबी के पिता का किरदार निभा रहे मिथिलेश चर्तुेवेदी को वह ‘पापा जी’ बुलाता है। पापाजी 70 साल के बुजुर्ग हैं, जिनकी दाईं आंख में परेशानी है। इसकी वजह से उनकी एक खास आदत बन गई कि वह हर किसी को अपनी बाईं तरफ देखते हैं। बाॅबी के दादाजी, जिसे हर कोई ‘बापूजी’ कहकर बुलाता है। वह 92 साल के हैं और एक स्वतंत्रता सेनानी रहे हैं। वह राष्ट्रपिता महात्मा गांधाी के साथ काम किया करते थे। वह हमेशा खुद को परेशानियों के बीच में फंसा हुआ पाते थे । इस वजह से उन्हें महात्मा गांधी ने ‘बीचवाले’ की उपाधि दी थी। वह इस उपाधि को खुशी-खुशी अपने सरनेम की तरह इस्तेमाल करने लगे। बाॅबी बीचवाले की पत्नी चंचल बीचवाले का किरदार निभा रहीं, अनन्या खरे को एक निकनेम मिला हुआ है, ‘ईएमआई भाभी’। जैसा कि नाम से पता चलता है, वह चंचल स्वभाव की हैं और हमेशा ही ईएमआई पर चीजें खरीदती हैं। वह हमेशा अपने पति को झिड़कती रहती हैं। उन्हें अपनी पहुंच से बाहर चीजें खरीदने के लिये उकसाती रहती हैं।

बाॅबी का एक छोटा भाई है- पपी बीचवाले। मनोज गोयल द्वारा निभाया जा रहा यह किरदार एक सेल्स एक्जीक्यूटिव है। गांधीवादी सोच रखने वाले पपी के विचार काफी ऊंचे हैं। वह अहिंसा और साधारण जीवन जीने पर भरोसा करता है। घर पर पपी की पत्नी शीतल बीचवाले तानाशाह स्वभााव वाले लोगों में से है। थोड़ी आलसी है और हमेशा अपने पति पर हुक़्म चलाती रहती है। यह किरदार अंकिता शर्मा निभा रही हैं। अन्य कलाकारों में शुभांगी गोखले हैं। जोकि चंचल की मां रीता का किरदार निभा रहीं है। उनके साथ चंचल के जुगाड़ू भाई राजू की भूमिका में हैं, राजीव पाण्डेय।

Leave a Comment