महाराष्ट्र

महागठबंधन बनाने निकले राहुल गांधी की, शरद पवार से मुलाकात को लेकर भ्रम

महागठबंधन बनाने निकले राहुल गांधी की, शरद पवार से मुलाकात को लेकर भ्रम

मुंबई। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की मेहमाननवाजी के लिए पार्टी पदाधिकारियों ने जोरदार तैयारियां की है। कोशिश है बीते दिनों मुंबई आए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह का रूतबा फीका पड़ जाए। राहुल गांधी 12 जून को मुंबई दौरे पर आ रहे हैं। गोरेगांव के एग्जीबिशन सेंटर में कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया गया है, जिसमें 15 हजार से ज्यादा बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं के शामिल होने की उम्मीद जताई गई है। समान विचारधारावाली पार्टियों से कांग्रेस महागठबंधन की तैयारी कर रही है, लेकिन राहुल गांधी और एनसीपी मुखिया शरद पवार की मुलाकात होगी या नहीं, इसकी जानकारी दोनों पार्टियों की ओर से नहीं दी जा रही है। साथ ही यूपीए गठबंधन के घटक दलों के नेताओं से भी भेंट का मसला गुलदस्ते में है।

मुंबई हवाईअड्डे पर राहुल के स्वागत के लिए वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे। मुंबई पहुंचने के बाद राहुल सबसे पहले जिला कांग्रेस कमेटी और ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्षों के साथ बैठक करेंगे। उसके बाद उनकी मुंबई मनपा के कांग्रेस नगरसेवकों के साथ बैठक प्रस्तावित है। राहुल मुंबई स्थानीय कांग्रेस समिति के एग्जीक्यूटिव बैठक में भी हिस्सा लेंगे। इस बैठक में लंबे समय से मुंबई जिला कांग्रेस कमेटी में रिक्त पड़े पदों की नियुक्ति को लेकर बातचीत होगी। संभव है कईयों को मौका मिल जाए। इस बैठक में प्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश, प्रदेशाध्यक्ष अशोक चव्हाण, विधानसभा में विपक्ष के नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल और मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम के अलावा कई प्रमुख नेता मौजूद रहेंगे। बैठक में मिशन 2019 की रणनीति बनाई जाएगी। इसी दौरान शनिवार को हुई बैठक में महागठबंधन के संबंध में रिपोर्ट राहुल को सौंपी जाएगी। हालांकि समविचारधारा वाली पार्टियों को साथ लाकर महागठबंधन बनाने का मन बना चुकी कांग्रेस की ओर से जानकारी नहीं दी गई है एनसीपी मुखिया शरद पवार से कब मुलाकात होगी। एनसीपी की ओर से भी अनभिज्ञता जताई गई है।
संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष की कमान संभालने के बाद पहली बार राहुल जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के संबोधित करेंगे। यह अलग बात है कि राहुल का दौरा यैसे समय में हो रहा है, जब राज्य में संगठन की हालत खस्ताहाल है। पालघर लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार दामोदर सिंगडा की जमानत जब्त हो गई थी। मौजूदा समय में विधानसभा में कांग्रेस के 42 विधायक हैं। विधान परिषद की चार सीटों के चुनाव में कांग्रेस ने मित्र दलों के उम्मीदवारों को समर्थन दिया है।

Leave a Comment