अन्य

छत्तीसगढ़ में करिश्माई तरक्की

1

रायपुर ———– केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के करिश्माई नेतृत्व में लगभग 15 वर्षों में विकास के हर क्षेत्र में करिश्माई तरक्की की है।

उन्होंने कहा – डॉ. रमन सिंह ने जनता को अपनी सरकार के काम-काज का ब्यौरा देने और लोगों की समस्याओं को हल करने के लिए विकास यात्रा का आयोजन किया है।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनसभा को सम्बोधित किया-जनता को योजनाओं का लाभ दिलाने और प्रदेशवासियों से मिल रहे सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद देने के लिए यह यात्रा शुरू की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा-प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने गरीब परिवारों की महिलाओं को रसोई गैस कनेक्शन देने के लिए उज्ज्वला योजना की शुरूआत की है। इस योजना में अन्य हितग्राहियों की तरह अब अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के सभी परिवारों को भी सिर्फ 200 रूपए में रसोई गैस कनेक्शन दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री की सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत जून से सितम्बर तक, अगले चार महीने में बस्तर अंचल सहित छत्तीसगढ़ के शेष रह गए समस्त गांवों, पारों और घरों को बिजली का कनेक्शन मिल जाएगा।

डॉ. सिंह ने कहा-गरीबों के लिए सस्ते चावल की योजना लगातार चलती रहेगी। मुख्यमंत्री ने जनसभा में यह भी ऐलान किया कि राज्य सरकार की संचार क्रांति योजना के तहत दो माह के भीतर 55 लाख लोगों को स्मार्ट फोन का वितरण किया जाएगा। युवाओं, माताओं और बहनों को इसका लाभ मिलेगा। ये स्मार्ट फोन आपके जीवन में परिवर्तन लाएगा।

लगभग 472 करोड़ के निर्माण कार्यों की सौगात

इस अवसर पर केन्द्रीय गृह मंत्री और मुख्यमंत्री ने दंतेवाड़ा जिले के विकास के लिए लगभग 472 करोड़ रूपए के निर्माण कार्यों का लोकार्पण, भूमिपूजन और शिलान्यास किया। इनमें 93 करोड़ रूपए के पूर्ण हो चुके विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकार्पण और 379 करोड़ रूपए के नये कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास शामिल हैं।

डॉ. रमन के दिल में गरीबों के लिए कुछ कर गुजरने की तड़फन

मुख्य अतिथि की आसंदी से शुभारंभ समारोह में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री सिंह ने रमन सरकार की योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा-गरीबों और समाज के जरूरतमंद वर्गों की भलाई के लिए कुछ कर गुजरने की तड़फन डॉ. रमन सिंह के दिल में हैं। कोई कल्पना भी नहीं कर सकता कि छत्तीसगढ़ में सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत गरीबों को एक रूपए किलो में चावल मिल रहा है और उसमें कोई धांधली भी नहीं हो रही है।

छत्तीसगढ़ राज्य की प्रगति की तारीफ करते हुए श्री राजनाथ सिंह ने यह भी कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी ने वर्ष 2000 में जब छत्तीसगढ़ समेत तीन नये राज्यों का गठन किया, तब कुछ लोग आशंका व्यक्त करते हुए कहते थे कि संसाधनों की कमी के कारण छोटे राज्यों का विकास नहीं हो सकता, लेकिन छत्तीसगढ़ प्रदेश की सरकार ने और यहां की जनता ने यह साबित कर दिया है कि हम छोटे जरूर हैं, लेकिन विकास के मामले में बड़े राज्यों से किसी भी मायने में पीछे नहीं है।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना आजाद भारत की पहली योजना

केन्द्रीय गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की विभिन्न योजनाओं का भी विशेष रूप से उल्लेख किया। उन्होंने प्रधानमंत्री जन-धन योजना का जिक्र करते हुए कहा कि आजाद भारत में यह पहली ऐसी योजना है, जिसमें हमारे प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बेघरों के लिए भी बैंकों में खाते खुलवाने की व्यवस्था की है।

प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना पर प्रकाश डालते हुए श्री राजनाथ सिंह ने कहा- गरीबों के लिए प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना एक ऐसी योजना है, जिसमें सिर्फ एक रूपए महीना खर्च करने पर लोगों को दो लाख रूपए का बीमा सुरक्षा मिलती है। किसी की मृत्यु हो जाने पर उसके परिवार को दो लाख रूपए और दुर्घटना में अपाहिज हो जाने पर एक लाख रूपए की सहायता दी जाती है। ये कोई छोटी बात नहीं है।

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने देश के करोड़ों गरीबों के लिए आयुष्मान भारत योजना की घोषणा की है और उसके प्रथम चरण की भी शुरूआत हो गई है। आप कल्पना नहीं कर सकते कि आयुष्मान भारत योजना में गरीबों को गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए पांच लाख रूपए तक की सहायता मिल सकती है। पहली बार देश के गरीबों के लिए पक्के शौचालयों की चिंता की गई है।

श्री राजनाथ सिंह ने केन्द्र सरकार की योजनाओं पर छत्तीसगढ़ में हो रहे कार्यों की तारीफ करते हुए कहा-डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अब तक सवा लाख गरीब परिवारों को पक्के मकान दिलवा दिए हैं। यह भी एक बड़ी उपलब्धि है।

श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने वर्ष 2003 में पहली बार राज्य की बागडोर संभाली और तब से उनके नेतृत्व में प्रदेश में समाज के सभी वर्गों की बेहतरी के लिए विकास की अनेक महत्वपूर्ण योजनाएं सफलतापूर्वक चल रही हैं। इन योजनाओं के जरिए राज्य में कई करिश्माई कार्य भी हुए हैं।

श्री राजनाथ सिंह ने कहा-डॉ. रमन सिंह पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं, जिन्होंने तेन्दूपत्ता श्रमिकों के पैरों में पनही (चरण पादुका) की चिंता, गरीबों के लिए सस्ते अनाज की चिंता की है, बालिकाओं के स्कूल आने-जाने के लिए साईकिल मुहैया कराने की चिंता की है, राजमिस्त्रियों और बढ़ई जैसे मेहनतकश समुदायों के लिए औजारों की चिंता की है। इन वर्गों के लिए कई योजनाओं की शुरूआत उन्होंने की है।

गरीबों और पिछड़ों के दुश्मन हैं माओवादी: केन्द्रीय गृह मंत्री

केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने जनसभा में माओवाद की समस्या का जिक्र करते हुए कहा-कुछ ताकतें नहीं चाहती कि गरीबों और आदिवासियों का विकास हो। ये ताकतें उन्हें गुमराह करने का प्रयास करती हैं, लेकिन यहां के आदिवासियों ने अपनी एकजुटता के साथ उन्हें बता दिया है कि वे विकास की मुख्य धारा से नहीं हटेंगे।

श्री राजनाथ सिंह ने माओवादियों (नक्सलवादियों) को गरीबोें और पिछड़ों का दुश्मन बताया। उन्होंने कहा-नक्सली चाहते हैं कि बस्तर के हमारे आदिवासी भाई-बहन आजीवन गरीब बौर अशिक्षित बनकर रहें, जबकि ये माओवादी अपनी हिंसक गतिविधियों के जरिए करोड़ों रूपए कमाते हैं और अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए

देश-विदेश की उच्च शिक्षा संस्थाओं में भेजते हैं।

श्री सिंह ने कहा-आदिवासी बहुल क्षेत्रों में विकास के अनेक बड़े कार्य हो रहे हैं। उन्होंने दंतेवाड़ा के लिए स्वीकृत 18 करोड़ रूपए के बायपास रोड सहित कई महत्वपूर्ण कार्यों का उदाहरण दिया, जिनका आज वहां भूमिपूजन, शिलान्यास और लोकार्पण हुआ।

Leave a Comment