अन्य

जिला कारागार देहरादून और हरिद्वार में हुई कई गड़बड़ियां

जिला कारागार देहरादून और हरिद्वार में हुई कई गड़बड़ियां

गृह विभाग ने हरिद्वार जिला कारागार में तैनात वरिष्ठ जेल अधीक्षक बह्म प्रकाश पांडेय को चार्जशीट जारी की है। उन पर लाखों रुपये की वित्तीय अनियमितता का आरोप है।

गृह विभाग ने यह कार्रवाई महानिरीक्षक कारागार के पत्र पर की है। पांडेय ने आरोपपत्र प्राप्त होने की पुष्टि की है। उनके मुताबिक, उन्होंने आरोपपत्र का जवाब दे दिया है। आरोपपत्र में वरिष्ठ जेलर के जिला कारागार देहरादून और हरिद्वार में तैनाती के दौरान गंभीर अनियमितताएं करने के मामलों का उल्लेख है। विभागीय जांच में बंदियों द्वारा निर्मित वस्तुओं को बेचकर 20 लाख से अधिक की धनराशि राजकीय कोष में जमा नहीं कराने और जेल में हुई खरीदों में हेराफेरी जैसे मामले मिले हैं।

वरिष्ठ अधीक्षक ने जिला कारागार में तैनाती के दौरान शासन की अनुमति के बिना श्रम सेवा स्वायत्त सहकारी समिति का गठन एवं संचालन किया। बंदियों द्वारा जेल के भीतर निर्मित की जाने वाली वस्तुओं के लिए खरीदेे कच्चे माल में व्यापक गड़बड़ी जांच में सामने आई है। कारागार श्रम सेवा सहकारिता समिति के अधीन बंदियों के माध्यम से निर्मित होने वाली सामग्री की खरीद फरोख्त में फर्जी बिल बाउचर प्रस्तुत किए गए। बंदियों के तैयार उत्पादों को बेचने पर प्राप्त हुई 20 लाख 86 हजार नौ सौ रुपये की धनराशि राजकीय कोष में जमा नहीं करवाई गई।

चार्जशीट में आरोप है कि जिला कारागार हरिद्वार में वरिष्ठ अधीक्षक पद पर बंदियों को सर्दियों के दौरान गांधी आश्रम से कंबल खरीदे जाने थे, लेकिन महानिरीक्षक कारागार के निर्देशों का अनुपालन न करते हुए सरकारी धनराशि 4 लाख 31 हजार दो सौ रुपये से घटिया गुणवत्ता के सात सौ कंबल भारतीय महिला ग्रामोद्योग एवं बाल विकास समिति से खरीदे गए। जांच में वरिष्ठ अधीक्षक बीपी पांडेय के खिलाफ कई गंभीर वित्तीय और प्रशासनिक अनियमितताएं मिलने पर महानिरीक्षक कारागार उत्तराखंड गृह विभाग ने उन्हें चार्जशीट कर जवाब तलब किया है।

वरिष्ठ जेल अधीक्षक बीपी पांडेय के खिलाफ हुई विभागीय जांच में उनके खिलाफ कई वित्तीय और अन्य तरह की अनियमितताएं मिली हैं। इसी आधार पर उन्हें चार्जशीट जारी की गई है। उनका पक्ष आने पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Comment