अन्य

छत्तीसगढ़ का ये विवि हर साल 10000 छात्रों को दिलाएगा रोजगार

छत्तीसगढ़ का ये विवि हर साल 10000 छात्रों को दिलाएगा रोजगार

बिलासपुर। बिलासपुर विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन पूरा करने वाले स्टूडेंट के लिए अच्छी खबर है। हर साल 50 फीसदी ग्रेजुएट को डिग्री के साथ रोजगार मिलेगा। सत्र 2019-20 से यह नई व्यवस्था लागू होगी। सिलेबस में बदलाव और रोजगार मूलक नए कोर्स शुरू करने की कवायद तेज हो गई है।

बिलासपुर विश्वविद्यालय से संबद्ध संभाग में कुल 124 यूजी-पीजी कॉलेज हैं। जिसमें हर साल 20 हजार से अधिक स्टूडेंट ग्रेजुएशन पूरा करते हैं। विश्वविद्यालय अब इन ग्रेजुएट को पढ़ाई के साथ रोजगार का अवसर भी प्रदान करेगा। उच्च शिक्षा में गुणवत्ता युक्त शिक्षा के साथ यह एक बड़ा बदलाव होगा। कॉलेजों को स्टूडेंट्स को स्किल नॉलेज देना होगा।

अधिकारी इसकी तैयारी में जुट गए हैं। करीब 10 से अधिक कॉलेजों को विशेष रूप से तैयार किया जाएगा। अधिष्ठता छात्र कल्याण डॉ.एचएस होता का कहना है कि केंद्र सरकार के माध्यम से यूजीसी ने इस संबंध में कुलपतियों को एक सकुर्लर भी जारी किया है।

जिसे ध्यान में रखते हुए यह कदम बढ़ाया गया है। आयोग ने स्पष्ट कहा है कि इससे संस्था में संचालित शिक्षा के स्तर का भी पता चलेगा। यही वजह है कि नए कोर्स व सिलेबस में बदलाव को लेकर तेजी से काम चल रहा है।

स्टूडेंट को ऐसे बढ़ाएंगे आगे

कॉलेज व यूनिवर्सिटी में 10 फीसदी से ज्यादा प्राध्यापकों के पद खाली न हो। रिसर्च को बढ़ावा, इंडक्शन प्रोग्राम,सिलेबस को रेगुलर बेसिस पर रिवाइज,बेहतरीन टीचिंग लर्निंग प्रोसेस, इंफॉर्मेशन कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल सभी कॉलेज पांच गांवों को गोद लें।

नए टीचर्स के लिए इंडक्शन ट्रेनिंग व कंप्यूटर शिक्षा पर अधिक जोर रहेगा। हालांकि यूटीडी में संचालित सभी कोर्स सरकार की आदेशों के मुताबिक है। फूड प्रोसेसिंग, होटल मैनेजमेंट, माइक्रोबायलॉजी, कंप्यूटर साइंस व कॉमर्स के स्टूडेंट पढ़ाई से काफी खुश हैं।

– पचास फीसदी ग्रेजुएट को हर साल रोजगार का लक्ष्य है। आयोग ने इस दिशा में देशभर के सभी कुलपतियों को कदम बढ़ाने कहा है। हमनें सिलेबस में बदलाव और नए कोर्स को लेकर कवायद शुरू कर दी है। कल इस संबंध में बोर्ड ऑफ स्टडी की बैठक भी हुई है। क्वालिटी एजुकेशन की दिशा में फायदा होगा। 

Leave a Comment