अन्य

चावल मिल के क्लर्क से किसान नेता और फिर कार्नाटक के मुख्यमंत्री, ऐसा रहा येदियुरप्पा की जिंदगी का सफर

चावल मिल के क्लर्क से किसान नेता और फिर कार्नाटक के मुख्यमंत्री, ऐसा रहा येदियुरप्पा की जिंदगी का सफर

#कर्नाटक_किसका

चावल मिल के क्लर्क से अपनी जिंदगी की शुरुआत करने वाले येदियुरप्पा ने अपनी राजनीति की शुरुआत एक किसान नेता के तौर पर की इससे आगे  बढ़कर दक्षिण में पहली बार भाजपा की सरकार के रूप में कमल खिलाने वाले बीएस येदियुरप्पा पहले नेता बने. येदियुरप्पा का पूरा नाम बुकंकरे सिद्दालिंगप्पा येदियुरप्पा है. येदियुरप्पा इससे पहले भी कर्नाटक में भाजपा के पहले मुख्यमंत्री के रूप में तीन साल दो महीने शासन कर चुके हैं और उनकी बदौलत भारतीय जनता पार्टी ने 2008 कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जबर्दस्त जीत हासिल की थी.

via

येदियुरप्पा अक्सर सफेद सफारी सूट पहने हुए नजर आते हैं. बता दें नवम्बर 2007 में जनता दल (एस) के साथ गठबंधन सरकार गिरने से पहले भी कुछ समय के लिए येदियुरप्पा मुख्यमंत्री थे. येदियुरप्पा ने गठबंधन सरकार गिरने पर इसे जनता दल (एस) के नेता एवं अपने पूर्ववर्ती एचडी कुमारस्वामी द्वारा किया गया ‘विश्वासघात’ करार दिया था.

via

येदियुरप्पा की शख्सियत एक विवादित शख्सियत रही है. भूमि घोटालों भाई भतीजावाद और अपने नाते रिश्तेदारों के पक्ष में नियमों के उल्लंघन के आरोप लगने के बाद ऐसा लगा था कि येदियुरप्पा की कुर्सी किसी सूरत में नहीं बचेगी लेकिन उस समय उन्होंने अपनी कोशिशों से खुद पर आए संकट के बादलों को छांट दिया था.

via

अगर येदियुरप्पा के पास्ट पर नज़र डालें तो उनके राजनीतिक करियर की शुरूआत 1983 में हुई, यह वह दौर था जब वो पहली बार विधानसभा में पहुंचे और तब से अब तक पांच बार लगातार शिकारीपुर से विधायक निर्वाचित हो चुके हैं. इसके अलावा पार्टी ने उन्हें दो बार प्रदेश अध्यक्ष की दायित्व भी दिया है. येदियुरप्पा के दो पुत्र और तीन बेटियां हैं. वर्ष 2004 में उनकी पत्नी का निधन रहस्यमयी परिस्थिति में एक कुएं में गिरने से हो गया था.

Leave a Comment