अन्य

भारत का पहला पैरालंपिक भवन— देशभर से 28 राज्यों के 1443 प्रतिभागी

चण्डीगढ़——— हरियाणा के फरीदाबाद में भारत का पहला पैरालंपिक भवन बनाया जाएगा। यह भवन 3 करोड़ 11 लाख रुपये की राशि से तैयार होगा। इसके साथ साथ दिव्यांगों को हरियाणा सरकार अगले वष से 2000 रुपये की मासिक पेंशन भी दी जाएगी।
CM-1
हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल ने पंचकूला के सेक्टर-3 स्थित ताऊ देवीलाल खेल स्टेडियम में पांच दिवसीय 18वीं राष्ट्रीय पैरालंपिक एथलेटिक्स चैंपियशिप 2018 के उद्घाटन अवसर दी।

उन्होंने आज दुर्गा अष्ठमी व राम नवमी की भी खिलाडिय़ों को बधाई दी।

इस प्रतियोगिता में देशभर से 28 राज्यों के 1443 प्रतिभागी भाग ले रहे है। पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया व पैरा स्पोर्टस एसोसिएशन ऑफ हरियाणा के प्रधान तथा केन्द्रीय योजना एवं रसायन एवं उर्वरक राव इंद्रजीत सिंह ने हरियाणा मुख्यमंत्री श्री मनोहरलाल द्वारा बनाई गई नई खेल नीति की सराहना की और कहा कि राज्य में खिलाडिय़ों को नकद राशि के इनाम दिए जा रहे है, यही कारण है कि प्रदेश में राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलों में बढ़ौतरी हुई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2010 में यह राष्ट्रीय पैरालंपिक एथलेटिक्स चैंपियनशिप फरीदाबाद में हुई थी। वर्ष 2016 में पंचकूला में और अब तीसरी बार 2018 में पंचकूला में आयोजित की जा रही है। हरियाणा में तीन बार यह प्रतियोगिता आयोजित की जा चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार स्नात्तक एवं स्नातकोत्तर युवाओं को 100 घंटे का रोजगार उपलब्ध करवा रही है और उन्हें 9 हजार रुपये की राशि का मानदेय भी मुहैया करवाया जाता है।

हरियाणा कौशल विकास मिशन के तहत अनेक प्रकार के प्रशिक्षण दिए जा रहे है। देश में 20 लाख दिव्यांगों को यह प्रशिक्षण देकर रोजगार उपलब्ध करवाने की व्यवस्था की जाएगी।

देश में 2 करोड़ 68 लाख दिव्यांग है, उनको स्वावलंबी बनाने के लिए मूलभूत सुविधाएं भारत व राज्य सरकार उपलब्ध करवाने के हरसंभव प्रयास कर रही है।

उन्होंने कहा कि एशियन खेलों में पैरालंपिक एथलेटिक्स में दिव्यांगों ने चार मैडल जीतकर हरियाणा व देश का नाम रोशन किया।

पैरालंपिक कमेटी ऑफ इंडिया व पैरा स्पोर्टस एसोसिएशन ऑफ हरियाणा के प्रधान तथा केन्द्रीय योजना एवं रसायन एवं उर्वरक राव इंद्रजीत सिंह ने कहा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का सपना है वर्ष 2028 तक आस्ट्रेलिया, रूस, चीन आदि देशों से ज्यादा खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उभर कर आएंगे और देश में पदकों की संख्या भी बढ़ेगी।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने एसोसिएशन को 50 लाख रुपये की राशि देने के लिए कहा है।

मुख्यमंत्री ने 18वीं राष्ट्रीय पैरा एथलेटिक्स प्रतियोगिता के शुभारंभ की घोषणा भी की।

प्रदीप सिंह ने खिलाडिय़ों को, खेलों को खेल की भावना से खेलने की दिशा में शपथ भी दिलवाई।

एसोसिएशन के सदस्य महीपाल ने इस चैंपियनशिप की गतिविधियों के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

इस अवसर पर सांसद रतनलाल कटारिया, जनस्वास्थ्य एवं अभियांत्रिकी राज्यमंत्री डॉ. बनवारी लाल, पंचकूला विधायक एवं मुख्यसचेतक ज्ञानचंद गुप्ता, नारनौल के विधायक ओम प्रकाश यादव, एसोसिएशन के प्रतिनिधियों सहित काफी संख्या में खेल प्रेमी भी उपस्थित थे।

Leave a Comment