अन्य

जल संकट-समाधान के लिये बैठकें जारी

1

शिमला ———मुख्यमंत्री श्री जय राम ठाकुर ने शिमला शहर के लिये विभिन्न जल स्रोतों से जल आपूर्ति के सुधार के लिये उठाए जा रहे कदमों की समीक्षा के लिये विभिन्न विभागों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गुम्मा, अश्वनी तथा गिरी नदी, जहां से शहर के लिये पानी की आपूर्ति की जा रही है, की क्षमता में वृद्धि करके शिमला के लिये 10 एम.एल.डी. से अधिक अतिरिक्त पानी की उपलब्धता सुनिश्चित बनाने के प्रयास किये जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अश्वनी खड्ड क्षेत्र में और अधिक ट्यूब वैल स्थापित करने की संभावना का पता लगाया जाएगा तथा गुम्मा और गिरी जल स्रोतों को आने वाले पानी पर चैक डैमों का निर्माण किया जाएगा। शिमला शहर में नौ अतिरिक्त जल भण्डारण टैंकों का निर्माण किया जाएगा जिनमें 17 एमएलडी अतिरिक्त पानी का भण्डारण किया जा सकेगा।

उन्होंने नगर निगम शिमला के अधिकारियों को पानी का रिसाव रोकने तथा क्रैगनेनों से ढ़ली के बीच सात किलोमीटर लम्बी मुख्य जलापूर्ति लाईन को बदलने के कार्य को शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जल वितरण की व्यवस्था में सुधार किया जाना चाहिए और इस कार्य को संजौली, ईंजनघर तथा टुटू वार्डो में शीघ्र करने के निर्देश दिए।

जय राम ठाकुर ने कहा कि चाबा परियोजना का कार्य एक वर्ष के भीतर पूरा किया जाना चाहिए, जो गुम्मा जल स्रोत को 10 से 15 एम.एल.डी. अतिरिक्त पानी उपलब्ध करवाएगा।

मुख्य सचिव विनीत चौधरी, अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. श्रीकान्त बाल्दी, अनिल खाची व तरूण कपूर, राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव डॉ. आर के प्रुथी, शिमला के उपायुक्त अमित कश्यप, नगर निगम शिमला क आयुक्त रोहित जम्वाल तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।

Leave a Comment