अन्य

ब्रिटेन (यू.के.) के साथ 10 समझौतें (एमओयू) पर हस्ताक्षर — 1500 करोड़ रुपये का निवेश

1

चंडीगढ़ —– हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि विभिन्न परियोजनाओं और पहलों के लिए ब्रिटेन (यू.के.) के साथ 10 समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए हैं जिनसे राज्य में 1500 करोड़ रुपये का निवेश होने और लगभग 1000 लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलने की सम्भावना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हाउस ऑफ लॉड्र्स में लॉर्ड राज लूमबा के साथ बैठक के दौरान छ: एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए हैं। इनमें पोंटाक (यूके इंडिया इनोवेशन फंड) के साथ फिनटेक, स्मार्ट सिटीज और इमर्जिंग टेक्नोलॉजीज पर ध्यान केंद्रित करते हुए, यूके इंडिया ग्लोबल बिजनेस लिमिटेड के साथ प्रौद्योगिकी हस्तांतरण को बढ़ावा देने, समर्थन सेवाओं और विशेष रूप से एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्रों पर केंद्रित ब्रिटेन / यूरोपीय कंपनियों की स्थापना के लिए, जैलबा लिमिटेड और एयू कैपिटल पार्टनर्स लिमिटेड के साथ इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी) पहल के उपक्रम के लिए, गुरुग्राम में 10 मिलियन पौंड स्टर्लिंग के निवेश के साथ विकास केंद्र स्थापित करने और 50 मिलियन पाउंड स्टर्लिंग (550 करोड़ रुपये )के निवेश के साथ आईओटी हार्डवेयर के निर्माण लिए; गुडबॉक्स के साथ हरियाणा में विनिर्माण और सेवाओं की आउटसोर्सिंग, प्रौद्योगिकी संचालन एवं विकास और सेवा एवं टेक कॉल सेंटर के लिए, जैपगो के साथ ऊर्जा भंडारण उपकरणों के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के लिए और भारत में विनिर्माण सुविधा की स्थापना के लिए और रिल्माटेक के साथ मानव रहित विमान प्रणाली (यूएएस) के लिए दूरस्थ आईडी एवं ट्रैकिंग सिस्टम के प्रौद्योगिकी विकास के लिए और यूएएस के अनुबंध निर्माण के लिए एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा में कौशल विकास में सहयोग करने के लिए डब्ल्यूकेसीआईसी समूह के साथ एक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए गए हैं। लंदन में सेंट्रल सिटी कॉलेज ग्रुप 16-18 साल के बच्चों और वयस्क शिक्षार्थियों के लिए ए-लेवल, बीटीईसी, अपरेंटिसशिप, फाउंडेशन डिग्री, उच्च शिक्षा तक पहुंच, रोजगार प्रशिक्षण और अल्पावधि कोर्स जैसे शैक्षणिक एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की एक श्रृंखला चलाता है।

यह पीटर जोन्स एंटरप्राइज़ अकादमी के साथ-साथ नियोक्ता और विशेषज्ञ कार्यक्रमों के लिए बिस्पोक प्रशिक्षण भी प्रदान करता है। कॉलेज हरियाणा में कौशल विकास कार्यक्रमों को ले कर और इसके लिए अपनी विशेषज्ञता साझा करेगा।

कोल्ड एनर्जी सहित कृषि क्षेत्र में अनुसंधान और सहयोगी गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए बर्मिंघम विश्वविद्यालय के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए हैं जिसमें आदान-प्रदान कार्यक्रम, शैक्षणिक कार्यशालाएं और संगोष्ठियों, शिक्षा और प्रशिक्षण शामिल हैं।

एमओयू स्वच्छ शीत श्रृंखलाओं के लिए उत्कृष्टता केंद्र विकसित करने के लिए एक सहयोग देने और गर्मियों में दो विशेष स्वच्छ शीत कार्यशालाएं भारत और ब्रिटेन में एक-एक आयोजित की जाएंगी जो हरियाणा में टिकाऊ कूलिंग के लिए ब्लूप्रिंट और डिलीवरी योजना के मानचित्र बनाने में मदद करेगा।

उन्होंने कहा कि दौरे के दौरान, प्रतिनिधिमंडल ने शेफील्ड के उन्नत विनिर्माण अनुसंधान केंद्र की तर्ज पर हरियाणा में ऐसा ही एक केन्द्र स्थापित करने में इस केंद्र के सहयोग की संभावनाओं का पता लगाया जिससे रोल्स रॉयस, मेटलटेक, मैक्लेरन और बोइंग जैसे प्रमुख खिलाडिय़ों का प्रवाह होगा।

उन्होंने कहा कि पहली बार किसी भी राज्य प्रतिनिधिमंडल ने लंदन से आगे लीड्स, शेफील्ड, एडिनबर्ग, ग्लासगो और बर्मिंघम जैसे विनिर्माण केंद्रों का दौरा किया है।

उन्होंने कहा कि राज्य कौशल विकास कार्यक्रमों के लिए विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के साथ सहयोग के अलावा यूके की राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना और लंदन के परिवहन की सर्वोत्तम पद्ध्तियों को अपनाएगा।

उन्होंने कहा कि जॉनसन मैथी और भारत यूके स्वास्थ्य संस्थानों की निवेश संभावनाएं बढ़ी हैं। हरियाणा राज्य औद्योगिक एवं आधारभूत संरचना विकास निगम के प्रबंध निदेशक श्री टी.एल. सत्यप्रकाश को सभी आशयों और उद्देश्यों के लिए हरियाणा लीड्स गेटवे पहल को आगे ले जाने के लिए नोडल अधिकारी नामित किया गया है।

उन्होंने कहा कि प्रतिनिधिमंडल ने ट्रांसपोर्ट फॉर लंदन (टीएफएल) के साथ एक बैठक भी की, जिसने गुरुग्राम जैसे विकासशील शहरों के लिए एक सफल सिटी ट्रांसपोर्ट सिस्टम के कार्यान्वयन के लिए व्यापक परिप्रेक्ष्य प्रदान किया। परिवहन मंत्री या परिवहन सचिव के नेतृत्व में हरियाणा की एक टीम को प्रदेश के गुरुग्राम, फरीदाबाद और अन्य शहरी क्षेत्रों के लिए व्यापक परिवहन प्रणाली विकसित करने के लिए सिद्धांतों को समझने और टीएफएल के साथ सहयोग की तलाश करने के लिए यूके के दौरे के लिए भेजा जाएगा।

हरियाणा में मल्टी-सुपर स्पेशियलिटी तृतीयक देखभाल अस्पताल और अन्य सेवाओं की स्थापना के प्रस्ताव पर इंडो यूके इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के साथ एक बैठक में चर्चा की गई। उनकी परियोजना और संबंधित मामलों के लिए विभिन्न स्थलों के विकल्प पर चर्चा की गई। उन्होंने कहा कि अंतिम से संबंधित मुद््दे को जून मास के अंत तक तय किया जाएगा।

श्री मनोहर लाल ने कहा कि उन्होंने सरकार और लीड्स सिटी रिजन से बिजनेस लिडर्स से मुलाकात की और एक ट्विनिंग व्यवस्था के माध्यम से हरियाणा और लीड्स सिटी रिजन के बीच द्विपक्षीय सहयोग व्यवस्था पर चर्चा की।

डाटा एनालिटिक्स, फिनटेक, एडवांस मैन्युफैक्चरिंग और हेल्थकेयर के क्षेत्रों में लीड्स, यूके के सबसे अधिक औद्योगीकृत क्षेत्रों में से एक है। उन्होंने कहा कि उन्होंने व्यापार संबंधों को तेज करने और लिविंग ब्रिज बनाने की आवश्यकता पर बल दिया जैसाकि ब्रिटेन की हालिया यात्रा के दौरान प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने परिकल्पना की थी।

उन्होंने कहा कि विनिर्माण विशेष रूप से एसएमई, बीपीओ, फिनटेक, फार्मा, एयरोस्पेस और रक्षा के क्षेत्रों में सहयोग के अवसर पर बल दिया गया। उन्होंने व्यापारियों को हरियाणा में अपने उद्यम स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया और उन्हें सरकार के पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया है।

उन्होंने कहा कि इससे एक अगले कदम के रूप में हरियाणा और लीड्स के बीच एक ट्विनिंग / सिस्टर स्टेट संबंध के लिए मार्ग प्रशस्त होगा। उन्होंने कहा कि यह भी निर्णय लिया गया है कि मामले को आगे बढ़ाने के लिए, दोनों पक्ष एक दूसरे के साथ मासिक आधार पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संपर्क में रहेंगे। एमडी, एचएसआईआईडीसी को उद्देश्य के लिए नोडल अधिकारी नामित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने उन्नत विनिर्माण पार्क शेफील्ड का भी दौरा किया। उन्नत विनिर्माण अनुसंधान केंद्र (एएमआरसी) की स्थापना 2001 में शेफील्ड विश्वविद्यालय और एयरोस्पेस जेंट बोइंग के बीच 15 मिलियन रुपए कोलैबरेशन के रूप में की गई थी। एएमआरसी किसी भी आकार के निर्माताओं को उन्नत तकनीकों, प्रौद्योगिकियों और प्रक्रियाओं को अपनाकर अधिक प्रतिस्पर्धी बनने में मदद करता है। इसे मशीनिंग, कास्टिंग, वेल्डिंग, योजक विनिर्माण, कंपोजिट्स, विनिर्माण के लिए डिजाइनिंग में विशेषज्ञ विशेषज्ञता हासिल है।

उन्होंने कहा कि हमने हरियाणा में उन्नत विनिर्माण पार्क (एएमआरसी) जैसे ही एक उन्नत विनिर्माण पार्क की स्थापना के लिए एएमआरसी को एक प्रस्ताव पेश किया है जो बोइंग, रोल्स रॉयस और मैक्लेरन जैसी कंपनियों को अपने संयंत्र स्थापित करने के लिए आवश्यक इको-सिस्टम प्रदान कर सकता है। उन्होंने टर्मिनल 5 में पीओडी कार सुविधा का भी दौरा किया। उन्होंने कहा कि यह दुनिया में एकमात्र संचालिक पर्सनल रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम ऑपरेशन है और केंद्रीय परिवहन मंत्री ने दिल्ली और गुरुग्राम के बीच ऐसे सिस्टम की मंजूरी दे दी है।

इजरायल की अपनी यात्रा का जिक्र करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि जेरूसलेम में हट्ज़लाह के मुख्यालय का दौरा किया जो एंबू-बाइक्स और प्रशिक्षित स्वयंसेवकों के माध्यम से कॉल के 90 सेंकड के भीतर नवीनतम तकनीक का उपयोग करके आपातकालीन चिकित्सा सहायता प्रदान करता है। यह सहायता मुसीबत में फंसे इजऱाइल के किसी भी नागरिक के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहती है।

हट्ज़लाह के अधिकारियों ने इजरायली नागरिकों के अमूल्य जीवन को बचाने के लिए संगठन द्वारा अपनाई गई पूरी प्रक्रिया के परिचालन विवरण की व्याख्या की और आपातकालीन चिकित्सा कॉल से निपटने के लिए पूरी तरह से सुसज्जित एंबू-बाइक्स के संचालन के माध्यम से पूरी प्रक्रिया में शामिल प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि हरियाणा में मौजूदा एम्बुलेंस प्रणाली के अलावा ऐसी आपातकालीन प्रतिक्रिया प्रणाली को अपनाने की संभावनाओं का पता लगाया गया और विचार-विमर्श किया गया।

उन्होंने कहा कि उन्होंने माइक्रो सिंचाई प्रणाली की जल सक्षम प्रौद्योगिकियों की प्रणाली, जिसे इजरायल के किसानों द्वारा व्यापक रूप से अपनाया गया है, को समझने के लिए कुछ खेतों का भी दौरा किया।

उन्होंने सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली को बढ़ावा देने के मामले में इजरायल कृषि में सबसे बड़ी माइक्रो सिंचाई कार्यान्वयन विनिर्माण कंपनी के योगदान को समझने के लिए नानदन जैन के मुख्यालय का भी दौरा किया। इसके अलावा, उन्होंने 20वीं अंतर्राष्ट्रीय कृषि प्रौद्योगिकी प्रदर्शनी और सम्मेलन (कृषि तकनीक इजऱाइल-2018) की मेजबानी करने वाले तेल अवीव कन्वेंशन सेंटर का दौरा किया और ‘स्मॉल होल्डर्स फॉमिंग कम्बेटिंग दा डेजट’ विषय पर पैनल चर्चा में भाग लिया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कृषि और ग्रामीण विकास मंत्री श्री एम के ऊरी एरियल की अध्यक्षता में इजरायल कृषि प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक की और कृषि, बागवानी, पशुपालन और डेयरी, कृषि में उपयोग के लिए पानी के पुनर्भरण, जल संरक्षण, सूक्ष्म सिंचाई को बढ़ावा देने तथा और अधिक उत्कृष्टता केंद्र की स्थापना में सहयोग के सम्भावित क्षेत्रों पर विचार विमर्श किया।

उन्होंने कृषि और बागवानी के अतिरिक्त जल संरक्षण और कृषि उद्देश्य के लिए पानी के पुनर्भरणमें नवीनतम तकनीक का प्रदर्शन करने वाली विभिन्न कंपनियों के स्टालों और प्रदर्शनी हॉल का दौरा एवं निरीक्षण किया।

Leave a Comment