राजस्थान

56 साल से दोहरे इन्क्रीमेंट की लड़ाई लड़ रहा है सरकारी शिक्षक

56 साल से दोहरे इन्क्रीमेंट की लड़ाई लड़ रहा है सरकारी शिक्षक

जयपुर। राजस्थान के सेवानिवृत्त पुरस्कृत शिक्षक पिछले 56 सालों से अतिरिक्त इन्क्रीमेंट की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्हें यह इन्क्रीमेंट सरकारी स्कूल में बच्चों की संख्या दोगुनी करने के बदल दिया जाना था।

राजस्थान के झुंझुनूं जिले के चिड़ावा के रहने वाले शिक्षक रामवतार शर्मा 80 साल के हो चुके हैं और सरकारी व्यवस्था से उनका संघर्ष साल 1962 से चल रहा है। उनका कहना है कि इन्क्रीमेंट की यह राशि बहुत छोटी है, लेकिन यह लड़ाई मेरी प्रतिष्ठा और न्याय की है और इसीलिए मैं इसके लिए लड़ रहा हूं।

मामला यह है कि 1958 में उन्हें बाड़मेर जिले के गांव पडरू के सरकारी स्कूल में पोस्टिंग मिली। दो वर्ष बाद सरकार ने घोषणा की कि जिस स्कूल में बच्चों की संख्या दोगुनी होगी और उस वर्ष कोई बच्चा स्कूल नहीं छोड़ेगा, वहां के शिक्षक को डबल इन्क्रीमेंट दिया जाएगा।

शर्मा कहते है कि उनके स्कूल में 38 बच्चे थे जो उन्होंने बढ़ाकर 1960-61 में 138 कर दिए। लेकिन सरकार ने वादे के अनुसार डबल इन्क्रीमेंट नहीं दिया। करीब 16 वर्ष तो उनकी फाइल बाड़मेर से जयपुर में पंचायतराज विभाग तक पहुंचने में लग गए, क्योंकि उस समय प्राथमिक स्कूल पंचायतराज विभाग के अधीन थे।

साल 1977 में यहां फाइल आने के बाद उन्हें बताया गया कि उनकी फाइल खो गई है। हालांकि बाद में फाइल मिल गई। तब से लगातार सचिवालय के चक्क्र लगा रहे है। अब उन्हें फिर से एक मंत्रीमण्डलीय समिति के समक्ष पेश होने के लिए बुलाया गया है। उन्हें उम्मीद है कि अब उन्हें न्याय मिल ही जाएगा।

Leave a Comment