उत्तरप्रदेश

बहराइच में बुखार से 128 लोगों की मौत, मंत्री लगा रही ठुमके

बहराइच में बुखार से 128 लोगों की मौत, मंत्री लगा रही ठुमके

बहराइच। उत्तर प्रदेश के बहराइच तथा पास के तराई के जिलों में संक्रामक बुखार का कहर जारी है। बहराइच जिले में मौसम परिवर्तन के बाद से मौतों का ग्राफ बढ़ गया है। 15 जुलाई से शुरू हुए संक्रामक रोगियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। नहसुतिया के मजरा गोड़ियनपुरवा में बुखार से पीड़ित दो बच्चों की मौत हो गई, जबकि आधा दर्जन से अधिक बच्चे बीमार हैं। आज ही 36 बच्चों को और भर्ती कराया गया है। बुखार की सूचना पाकर स्वास्थ्य टीम गांव में पहुंच गई है। सीएमओ ने प्रभावित गांव में पहुंचकर स्थिति का जायजा लिया।

इसके बीच बहराइच की निवासी योगी आदित्यनाथ सरकार में स्वतंत्र प्रभार की मंत्री अनुपमा जायसवाल इन बातों से बेखबर हैं। अनुपमा जायसवाल ने कल रात वशीरगंज मुहल्ले में बहराइच के राजा पंडाल में आयोजित जागरण कार्यक्रम में जमकर ठुमके लगाए। यहां गायक तरुण सागर के गीत पर बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री अनुपमा जायसवाल ने जमकर ठुमके लगाए। बताया जा रहा है कि श्री गणेश पूजा पंडाल में जब भक्ति का माहौल बना तब वहां पर मंत्री अनुपमा जायसवाल ठुमके लगाने लगीं। मंत्री जागरण में काफी देर तक मौजूद रहीं। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर जरूर बनेगा।

60 दिन में अब तक 128 लोगों की मौत
बता दें कि अलग-अलग तरह के बुखार से 60 दिन में अब तक 128 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें दो सगे भाई भी शामिल हैं, जिन्होंने डायरिया व बुखार की चपेट में आकर आठ घंटे के अंतराल में दम तोड़ दिया था। अस्पताल प्रशासन रोगियों को देर से अस्पताल व स्वास्थ्य केंद्र लाने का ठीकरा अभिभावकों पर फोड़ रहा है लेकिन हकीकत कुछ और है। बहराइच जिला अस्पताल में न तो संसाधन है न ही सुविधा है, जबकि ये देवीपाटन मंडल का मॉडल अस्पताल है। हालत ये है कि यहां पीआईसीयू में एक बेड पर तीन-तीन मरीज भर्ती हैं। वहीं अगर बात बीते 45 दिनों की करें तो जिले में संक्रामक बीमारियों से 71 बच्चों की मौत हो चुकी है। इनमें मैनिनजाइटिस से 12, एईएस से छह व सर्वाधिक मौत सेप्टीसीमिया से 23 बच्चों की मौत हुई है। इसके साथ ही बर्थ एसफिक्सिया से 11 व निमोनिया से भी नौ बच्चों की मौत हुई है। सीएमएस डॉक्टर ओपी पांडेय ने बताया अस्पताल में बहराइच ही नहीं श्रावस्ती, गोंडा व बलरामपुर के मरीज आते हैं, जिसके कारण अस्पताल में मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हुई है। उन्होंने बताया कि बीते 24 घंटे के दौरान पांच बच्चों की मौत हो चुकी है।

Leave a Comment