उत्तरप्रदेश

चारा घोटाला: झारखंड हाईकोर्ट ने इलाज के लिए लालू प्रसाद यादव को दी 6 हफ्ते की प्रोविजनल बेल

चारा घोटाला: झारखंड हाईकोर्ट ने इलाज के लिए लालू प्रसाद यादव को दी 6 हफ्ते की प्रोविजनल बेल

रांची.झारखंड हाईकोर्ट ने शुक्रवार को चारा घोटाले में सजायाफ्ता लालू प्रसाद को 6 हफ्ते की प्रोविजनल बेल दे दी। लालू की ओर से इलाज कराने के लिए यह जमानत मांगी गई थी। बता दें कि वे गुरुवार को हो अपने बेटे तेजप्रताप की शादी में तीन दिन की पेरोल पर पटना पहुंचे थे। उधर, हाईकोर्ट से उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, राजद के दो वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह और शिवानंद तिवारी को भी कोर्ट की अवमानना के केस में राहत मिली है। चारा घोटाला के एक केस के फैसले पर बयान देने पर सीबीआई कोर्ट ने इन्हें अवमानना का नोटिस भेजा था।

लालू मुंबई में कराना चाहते हैं इलाज
– लालू ने मुंबई अपना इलाज कराने के लिए तीन महीने की अंतरिम जमानत मांगी थी,लेकिन कोर्ट ने सिर्फ 6 हफ्ते दिए। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई के बाद एम्स से रिपोर्ट मंगाई थी। लालू की ओर से कोर्ट को बताया गया था कि उनकी तबियत ठीक नहीं है। वह मुंबई के एशियन हार्ट इंस्टीट्यूट में आगे का इलाज कराना चाहते हैं।

बेटे की शादी के अलावा कहीं और नहीं जा सकेंगे लालू प्रसाद
– लालू यादव गुरुवार को 138 दिन बाद पटना स्थित अपने घर पहुंचे। उन्हें बेटे तेज प्रताप की शादी के लिए 3 दिन की पेरोल मिली है।

– बता दें कि 23 दिसंबर, 2017 को देवघर ट्रेजरी मामले में कोर्ट ने लालू समेत 16 आरोपियों को दोषी करार दिया था। इसी दिन से लालू रांची स्थित बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार में बंद हैं। इसके बाद देवघर केस में लालू को साढ़े तीन साल की सजा सुनाई गई थी। 29 मार्च को इलाज के लिए उन्हें दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया। इसके बाद एक मई को उन्हें पुन: रिम्स भेज दिया गया।
लालू को 6 में से इन 4 केस में सजा
चाईबासा ट्रेजरी का पहला केस:30 सितंबर 2013 को कोर्ट ने लालू यादव को दोषी माना। पांच साल जेल की सजा हुई। 25 लाख रुपए का जुर्माना भी उन पर लगाया गया था।
देवघर ट्रेजरी केस:23 दिसम्बर 2017 को दोषी करार। 6 जनवरी 2018 को लालू समेत 16 आरोपियों को साढ़े तीन साल जेल की सजा सुनाई गई। लालू पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया।
चाईबासा ट्रेजरी का दूसरा केस: 24 जनवरी 2018 को लालू दोषी करार। इसी दिन उन्हें 5 साल की सजा सुनाई गई। दस लाख रुपए जुर्माना।
दुमका ट्रेजरी केस:मार्च 2018 में लालू यादव को दोषी माना गया। पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र बरी हुए। 24 मार्च को लालू को 7-7 साल की सजा सुनाई गई। दोनों सजाएं अलग-अलग चलेंगी। यानी कुल 14 साल। लालू पर 60 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया।

इन 2 केस में चल रही सुनवाई
डोरंडा ट्रेजरी केस: सुनवाई चल रही है।
भागलपुर ट्रेजरी केस: इसकी सुनवाई पटना की सीबीआई कोर्ट में चल रही है।

 

Leave a Comment