उत्तरप्रदेश

उ.प्र. के रिश्वतखोर 51 लोक सेवक गिरफ्तार

उ.प्र. के रिश्वतखोर 51 लोक सेवक गिरफ्तार

लखनऊ। भ्रष्टाचार निवारण संगठन बीते आठ महीनों में उत्तर प्रदेश के 15 भ्रष्ट और रिश्वतखोर सरकारी कर्मचारियों को अपने शिंकजे में ले चुका है। एंटी करप्शन आर्गनाइजेशन के शिकंजे में फंसे इन 51 सरकारी कार्मिकों में से राजस्व विभाग के 17, 06 उप्र पावर कारपोरेशनके तो 05 खुद पुलिस विभाग के भ्रष्ट कर्मी है। इन 51 सफल ट्रैपों में भ्रष्टाचार निवारण संगठन ने अब तक 10.50 लाख रुपये की धनराशि ट्रैप की है।
गृह विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि कि बीती 01 जनवरी से 27 अगस्त 2018 तक की गई कार्यवाही में भ्रष्टाचार निवारण संगठन द्वारा कुल 51 सफल ट्रैप्स किये गये। इन ट्रैप्स में संगठन ने पुलिस विभाग के 5, कृषि विभाग के 3, पंचायतीराज विभाग के 4, राजस्व विभाग के 17, यूपी पॉवर कारपोरेशन के 6, आवास विकास परिषद के 1, उद्यान विभाग के 1, बेसिक शिक्षा विभाग के 1, लोक निर्माण विभाग के 1, चिकित्सा विभाग के 3, खाद्य एवं रसद विभाग के 1, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग के 2, मनोरंजन कर विभाग, सिंचाई विभाग, विपणन विभाग, स्थानीय निकाय विभाग, चकबंदी विभाग के 1 और श्रम विभाग के एक-एक कर्मचारी को रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा है।
प्रवक्ता ने बताया कि भ्रष्टाचार निवारण संगठन ने इस अवधि में किए गए सफल टै्रप्स में कुल दस लाख पचास हजार एक सौ रुपए की धनराशि ट्रैप की गयी। साथ ही अवधि में कुल 61 जांचों का का निस्तारण भी किया।
प्रवक्ता ने बताया कि डीजीपी ओपी सिंह ने मुख्यालय सभागार में भ्रष्टाचार निवारण संगठन के अधिकारियों के साथ बैठक कर भ्रष्ट लोक सेवकों के विरुद्ध मिलने वाली शिकायतों में प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने जनता को यह भी अवगत कराने का निर्देश दिया कि यदि किसी भ्रष्ट अधिकारी या कर्मचारी द्वारा किसी कार्य को करने या न करने के लिए घूस की मांग की जाए तो उसकी सूचना भ्रष्टाचार निवारण संगठन के मुख्यालय चर्तुथ तल, इन्दिरा भवन लखनऊ पर स्वयं आकर अथवा संगठन के कन्ट्रोल रूम के दूरभाष संख्या 9454402484 पर दे सकते हैं।

Leave a Comment