उत्तरप्रदेश

UP: आंधी-तूफान के कारण 39 लोगों की मौत, 53 घायल; CM योगी ने दिए सभी DM को निर्देश

UP: आंधी-तूफान के कारण 39 लोगों की मौत, 53 घायल; CM योगी ने दिए सभी DM को निर्देश

लखनऊ.मौसम ने रविवार का एक बार फिर से तबाही मचाई। देश के उत्तर से लेकर दक्षिणी और पूर्व से लेकर पश्चिमी हिस्सों में आंधी-तूफान ने तबाही मचाई। 24 घंटे के दौरान आंधी, तूफान और बारिश की वजह से उत्तर प्रदेश में 39 लोंगों की मौत हो गईं है जबकि 53 लोग घायल हो गए हैं। जोरदार तूफान के कारण दिल्ली, मुरादाबाद, गाजियाबाद में 12 से अधिक ट्रेनें कई घंटों तक फंसी रहीं।

– रीलिफ कमिश्नर संजय कुमार ने बताया कि आंधी-तूफान के कारण 39 लोगों की मौत हो गई जबकि 53 लोग घायल हैं। सभी को 24 घंटे के अंदर मुआवजा देने के लिए ऑर्डर दे दिए गए हैं। वहीं, आंधी-तूफान के कारण 9 जाववरों की भी मौत हे गई है।
– तेज हवाओं से उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में पेड़ और बिजली खंभे गिर गए है। इतना ही लखनऊ एयरपोर्ट पर कई घंटों से उड़ाने रोक दी गई है।
– नोएडा द्वारका लाइन की मेट्रो को 30 मिनट के लिए रोक दिया था। तेज आंधी-तूफान के चलते दिल्ली में मेट्रो भी देरी से चली। हर दो मिनट में आने वाली मेट्रो करीब 30 मिनट की से स्टेशन पहुंची।

इन जिलों में हुआ सबसे अधिक नुकसान

– आंधी-तूफान-बारिश से कहीं सैकड़ों पेड़ उखड़ गए, कहीं दीवार ढह गई। कासगंज, संभल, गाजियाबाद, बाराबंकी और सहारनपुर में सबसे ज्यादा जानमाल का नुकसान हुआ है।
– गाजियाबाद में तूफान के कारण लाल कुआं शिव मन्दिर के पास एक कार पर पेड़ गिरने से एक कार सवार की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दूसरा शख्स गंभीर रूप से घायल हो गया।
– बाराबंकी के रामनगर थाने के पास पेड़ गिरने से पति-पत्नी की मौत हो गई। तेज हवाओं से शहर में कहीं टेम्पो पलट गया तो कहीं मकान पर पेड़ गिर गए।

सीएम ने दिए आदेश

– आंधी तूफान के बाद सीएम योगी ने राहत और बचाव के लिए निर्देश दिए हैं। सीएमओ ऑफिस के ट्विटर से मिली जानकारी के अनुसार, ‘प्रदेश के कन्नौज, अलीगढ़, कासगंज, सम्भल, बुलन्दशहर, औरय्या, गाज़ियाबाद, ग्रेटर नोएडा (गौतमबुद्ध नगर) आदि जनपदों में आए आंधी-तूफान से प्रभावित क्षेत्रों में राहत कार्य युद्धस्तर पर संचालित करने के निर्देश दिए हैं।”
– प्रभावित जनपदों से सम्बन्धित जिलाधिकारियों और मंडलायुक्तों को निर्देश दिए हैं कि इस आंधी-तूफान में मृत व्यक्तियों के परिजनों को शीघ्र राहत राशि उपलब्ध कराई जाए तथा घायलों की समुचित चिकित्सा व्यवस्था सुनिश्चित करें। संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार प्रभावितों के साथ है और उनकी हर संभव मदद की जाएगी। आंधी-तूफान से क्षतिग्रस्त अवस्थापना सुविधाओं की मरम्मत का कार्य तुरन्त प्रारम्भ किया जाए। राहत कार्यों में किसी भी प्रकार की शिथिलता और लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

 

Leave a Comment