नौकरी

अब प्रतिवर्ष अनिवार्य रूप से होगा दीक्षांत समारोह का आयोजन, आदेश जारी

अब प्रतिवर्ष अनिवार्य रूप से होगा दीक्षांत समारोह का आयोजन, आदेश जारी

नई दिल्ली। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालयों को पत्र लिखकर निर्देश दिया है कि वे प्रतिवर्ष अनिवार्य रूप से दीक्षांत समारोह का आयोजन करें।
मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दीक्षांत समारोहों का नियमित रूप से आयोजन किया जाना चाहिए और प्रतिवर्ष डिग्रियां प्रदान की जानी चाहिए। स्नातक छात्रों के लिए इस समारोह का बड़ा महत्व होता है और उनके परिवारों के लिए यह एक गर्व का क्षण होता है। यह पाया गया है कि कुछ विश्वविद्यालय वित्तीय या समय अभाव की वजह से नियमित रूप से इस समारोह का आयोजन नहीं कर रहे हैं। लेकिन सभी विश्वविद्यालयों से इस समारोह का आयोजन प्रतिवर्ष करने की उम्मीद की जाती है। मंत्रालय ने सभी विश्वविद्यालयों को अपने यहां आयोजित पिछले दीक्षांत समारोह का विवरण भेजने के लिए भी कहा है।
उदाहरण के तौर पर पश्चिम बंगाल के विश्व भारती विश्वविद्यालय ने पांच साल बाद मई में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया था। त्रिपुरा के केंद्रीय विश्वविद्यालय ने चार साल बाद इस साल दीक्षांत समारोह का आयोजन किया जिसमें पिछले चार साल के सभी विद्यार्थियों को डिग्रियां प्रदान की गईं। इसी क्रम में दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) ने अपना दूसरा दीक्षांत समारोह इस साल आयोजित किया। इससे पहले जेएनयू ने अपना पहला दीक्षांत समारोह 46 साल पहले आयोजित किया था।

Leave a Comment