लाइफस्टाइल

International Yoga Day 2018: जानिए योग के 7 प्रमुख आसन और उनके लाभ

International Yoga Day 2018: जानिए योग के 7 प्रमुख आसन और उनके लाभ

योग शरीर, मन और भावनाओं को संतुलित करने और तालमेल बनाने का एक साधन है। योग स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है इसे रोज करने से कई बीमारियों से छुटकारा मिल सकता है। 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पूरी दुनिया में मनाया जाएगा। इस दिन के साथ ही आप भी अपने दैनिक कामों में योग को शामिल कर सकते है। आज हम आपको योग के 10 प्रमुख आसन बताने जा रहे हैं।

1. स्वस्तिकासन

स्वस्तिकासन करने के लिए बाएं पैर को घुटने से मोड़कर दाहिने जांघ और पिंडली के बीच इस प्रकार स्थापित करें की बाएं पैर का तल छिप जाए उसके बाद दाहिने पैर के पंजे और तल को बाएं पैर के नीचे से जांघ और पिंडली के मध्य स्थापित करने से स्वस्तिकासन बन जाता है। ध्यान मुद्रा में बैठें व रीढ़ सीधी कर श्वास खींचकर यथाशक्ति रोकें। इसी प्रक्रिया को पैर बदलकर भी करें।

इसे करने के लाभ

इसे करने से पैरों का दर्द, पसीना आना दूर होता है।
पैरों का गर्म या ठंडापन दूर होता है।
यह आसन ध्यान करने के लिए बहुत अच्छा है।

2. गोमुखासन

दोनों पैर सामने फैलाकर बैठें। बाएं पैर को मोड़कर एड़ी को दाएं नितम्ब के पास रखें। दायें पैर को मोड़कर बाएं पैर के ऊपर इस प्रकार रखें की दोनों घुटने एक दूसरे के ऊपर हो जाएं। दायें हाथ को ऊपर उठाकर पीठ की ओर मुडिए तथा बाएं हाथ को पीठ के पीछे नीचे से लाकर दायें हाथ को पकड़िए। ध्यान रहे कि गर्दन और कमर सीधी रहे। एक ओ़र लगभग एक मिनट तक करने के बाद दूसरी ओ़र से इसी प्रकार करें।

इसे करने के लाभ

यह आसन धातुरोग, बहुमूत्र एवं स्त्री रोगों में लाभकारी है।
संधिवात, गाठिया रोग को दूर करता है।

3. गोरक्षासन

दोनों पैरों की एडी व पंजे आपस में मिलाकर सामने रखिये।
अब सीवनी नाड़ी को एडियों पर रखते हुए उस पर बैठ जाइए। दोनों घुटने जमीन पर टिके हुए हों।
हाथों को ज्ञान मुद्रा की स्थिति में घुटनों पर रखें।

इसे करने के लाभ

मांसपेशियो में रक्त संचार ठीक रूप से होकर वे स्वस्थ होती है।
इन्द्रियों की चंचलता समाप्त कर मन में शांति प्रदान करता है।

4. अर्द्धमत्स्येन्द्रासन

दोनों पैर सामने फैलाकर बैठें। बाएं पैर को मोड़कर एडी को नितम्ब के पास लगाएं।
बाएं पैर को दायें पैर के घुटने के पास बाहर की ओ़र जमीन पर रखें।
बाएं हाथ को दायें घुटने के पास बाहर की ओ़र सीधा रखते हुए दायें पैर के पंजे को पकडें।
दायें हाथ को पीठ के पीछे से घुमाकर पीछे की ओ़र देखें।
इसी प्रकार दूसरी ओ़र से इस आसन को करें।

इसे करने के लाभ

डायबिटीज व कमरदर्द में लाभकारी है।
रक्त संचार को सुचारू रूप से चलाता है।
पेट के जुड़ी परेशानियों को दूर करता है।

5. योगमुद्रासन

बाएं पैर को उठाकर दायीं जांघ पर इस प्रकार लगाइए की बाएं पैर की एडी नाभि के नीचे आए।
दायें पैर को उठाकर इस तरह लाइए की बाएं पैर की एडी के साथ नाभि के नीचे मिल जाए।
दोनों हाथ पीछे ले जाकर बाएं हाथ की कलाई को दाहिने हाथ से पकड़े। फिर श्वास छोड़ते हुए।
सामने की ओ़र झुकते हुए नाक को जमीन से लगाने का प्रयास करें। हाथ बदलकर क्रिया करें।

इसे करने चेहरा सुन्दर, स्वभाव विनम्र व मन एकाग्र होता है।

6. शंखासन

हाथों को घुटनों पर रखते हुए पंजों के बल बैठ जाइए। श्वास अंदर भरते हुए दायें घुटने को बाएं पैर के पंजे के पास टिकाइए व बाएं घुटने को दायीं तरफ झुकाइए।
गर्दन को बाईं ओ़र से पीछे की ओ़र घुमाइए व पीछे देखिये।
थोड़े समय रुकने के बाद श्वास छोड़ते हुए बीच में आ जाए। इसी प्रकार दूसरी ओ़र से करें।

इसे करने से सभी प्रकार के पेट से संबंधित रोग दूर हो जाते हैं।

7. सर्वांगासन

दोनों पैरों को धीरे-धीरे उठाकर 90 डिग्री का एंगल बनाएं। बाहों और कोहनियों की सहायता से शरीर के निचले भाग को इतना ऊपर ले जाएं की वह कन्धों पर सीधा खड़ा हो जाए।
पीठ को हाथों का सहारा दें।. हाथों के सहारे से पीठ को दबाए। फिर धीरे-धीरे
पहले पीठ को जमीन से टिकाएं फिर पैरों को भी धीरे-धीरे सीधा करें।

इसे करने से थायराइड में लाभ मिलता है।
मोटापा, दुर्बलता, थकान आदि की परेशानी दूर हो जाती हैं।

Leave a Comment