मध्यप्रदेश

कर्ज में दबे किसान ने फांसी लगाकर की हत्या

कर्ज में दबे किसान ने फांसी लगाकर की हत्या

भोपाल। मध्यप्रदेश में एक बार फिर अपने कर्ज चुकाने की चिंता से परेशान हो चुके किसान मौत को गले लगा लिया। ताजा मामला मप्र के ग्रस्त ग्राम कड़ोदिया नामक गांव का है। किसान की पहचान राधेश्याम नाम से हुई है। मिली जानकारी के मुताबिक राधेश्याम के करीब साढ़े चार लाख रुपए का कर्ज था और फसल खराब होने के बाद भी मुआवजा न मिलने से ऋण चुकाने व परिवार का गुजारा करने को लेकर चिंतित था। रविवार को किसान ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी।

पुलिस ने इस मामले में जानकीरी देते हुए बताया कि राधेश्याम खेत पर जाने के लिए निकला था। करीब एक घंटे बाद जब आसपास के किसान खेतों पर और मवेशी चराने पहुंचे तो राधेश्याम को पेड़ पर फंदे पर लटका पाया। इसके बाद लोगों ने मृतक के बड़े भाई रुगनाथ को जानकारी दी।

मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। रुगनाथ ने बताया कि दोनों भाई का संयुक्त परिवार है। आठ बीघा जमीन पर खेती कर जीवन यापन करते हैं। इसके लिए किसान क्रेडिट कार्ड से 3 लाख रुपए, सेवा सहकारी संस्था से 60 हजार रुपए व अन्य लोगों का करीब एक लाख रुपए बकाया था। उसने आगे बताया कि सोयाबीन की फसल नष्ट होने पर फशल बीमा होने के बावजूद मुआवजा नहीं मिला।

इस बार रबी सीजन में कुएं में पानी कम होने से गेहूं-चने की पैदावार भी कम रही। इससे राधेश्याम तीन-चार दिन से चिंतित था। घर पर बात करता था कि कर्ज कैसे चुकाएंगे और अपना गुजारा कैसे करेंगे।राधेश्याम के दोनों बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। बड़ा बेटा रितेश नौवीं का छात्र है और छोटी बेटी वर्षा पांचवीं में पड़ती है।

Article कर्ज में दबे किसान ने फांसी लगाकर की हत्या took from Puri Dunia | पूरी दुनिया.

Leave a Comment