मध्यप्रदेश

‘शिवराज को चौथी बार सरकार बनाने ‘शिवराज का सहयोग

‘शिवराज को चौथी बार सरकार बनाने ‘शिवराज का सहयोग

भोपाल । मध्यप्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में शिवराज सिंह चौहान को चुनाव जिताने में जितना सहयोग उनकी योजनाओं और पिछले 13 सालों के कार्र्यकाल में मिली उपब्धियों से मिलेगा, उतना ही सहयोग भाजपा के सोशल मीडिया से सहयोग मिलेगा। जिसको लेकर उन्होंने रणनीति बनाना शुरू कर दी गई है।

मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान ने जहां प्रदेश के दौरे तेज किए हैं, वहीं उनके हम नाम शिवराज डाबी ने सोशल मीडिया के द्वारा पार्टी की गतिविधियों को कार्यकर्ता तक भेजने का काम शुरू कर दिया है। भारतीय जनता युवा मोर्चा के पंचायत चलो अभियान के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान वॉइस रिकार्डिंग वाले ऑडियो कॉल किए गए। दरअसल हम बात करे रहे हैं भाजपा के प्रदेश आई.टी. संयोजक शिवराज डाबी की, जो कि पार्टी की सभी गतिविधि से कार्यकर्ताओं को अवगत करवा रहे हैं। शिवराज डाबी ने राष्ट्रीय हिन्दी के इस प्रतिनिधि से चर्चा में कहा कि उन्होंने अभी तक आईटी के क्षेत्र में काम करने वाले करीब 65 हजार कार्यकर्ताओं को जोड़ा है। बूथ की जिम्मेदारी संभाल रहे कार्यकर्ताओं मीडिया संयोजक बनाया है। जो बूथ स्तर पर होने वाली पार्टी गतिविधयों को जनता तक पहुंचाने का काम करते हैं। उन्होंने आगामी विधानसभा चुनाव में आईटी सेल की उपयोगिता पर कहा कि जिस तरीके से सोशल मीडिया और सोशल साइट का उपयोग तेजी से बढ़ा है, आगामी चुनाव में चुनाव प्रचार का सबसे बड़ा माध्यम यही होगा।

सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसके माध्यम से चंद मिनट में अपनी बात को लाखों लोगों तक पहुंचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया की सबसे बड़ी टीम मध्यप्रदेश के पास है। गौरतलब है कि भाजपा की आईटी सेल हाल ही में शिवराज सिंह चौहान के अंगद के पांव वाला वीडियो जारी करने को लेकर चर्चा में आया था, जिसको लेकर कांग्रेस ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराते हुए सायबर थाने में शिकायत भी दर्ज कराई थी। यह मामला पूरी तरह शांत भी नहीं हुआ था कि एक नया वीडियो सामने आ गया, जिसमें राहुल गांधी, कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह को फिल्म अभिनेता आमिर खान की फिल्म 3 इडियट के गाने पर फिल्माया गया। वीडियो में कांग्रेस के सभी नेताओं का जमकर मजाक उड़ाया गया। चुनावी समर में नेताओं के पुराने कारनामों पर भाजपा के आई.टी. सेल की पैनी नजर है। इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर पार्टी के खिलाफ टिप्पणी करने वालों को भी भाजपा आई.टी. सेल द्वारा कड़ा विरोध किया जाता है, जबकि कांग्रेस अपने आई.टी. विभाग को मजबूत करने के प्रयास कर रही है। इतना ही नहीं कांग्रेस ने तो विधानसभा चुनाव के लिए प्रशांत किशोर जैसे एक्सपर्ट से सलाह मांगी है, जो कि चुनावी टिप्स देंगे। ऐसे में अब देखना यह है कि आई.टी. सेल के संयोजक शिवराज डाबी जनमत के सागर से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की नैया को पार करा पाते हैं या नहीं। यह तो आने वाले विधानसभा के परिणाम ही बताएंगे

Leave a Comment