धर्मं

महामृत्युंजय मंत्र में छिपा है हर समस्या का समाधान

महामृत्युंजय मंत्र में छिपा है हर समस्या का समाधान

हिन्दू धर्म ग्रंथो में कई ऐसे मंत्र बताये गए है जिनसे अकाल मृत्यु पर विजय प्राप्त की जा सकती है। और ऐसा ही एक मंत्र है ‘महामृत्युंजय मंत्र’,।‘महामृत्युंजय मंत्र’, जिसे रुद्र मंत्र, त्रयम्बकम मंत्र, मृत संजीवनी मंत्र आदि नामों से भी लोग जानते हैं। बता दें कि पद्म पुराण में वर्णित इस मंत्र को महर्षि मार्कंडेय ने ही तैयार किया था। ऐसी मान्यता है कि मार्कंडेय ही एकलौते ऐसे ऋषि थे, जिन्हें इस महामंत्र का ज्ञान था। यही नहीं, महर्षि शुक्राचार्य ने भी इस महामंत्र के द्वारा अमृत सिद्धि की प्राप्ति की थी।

क्या है महामृत्युंजय मंत्र –

ॐ हौं जूं स: भूर्भुव: स्व:

ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्।

उर्वारुकमिव बंधनानमृत्योर्मुक्षीय मामृतात।

स्व:भुव: भू ॐ स: जूं हौं ॐ।

महामृत्युंजय मंत्र का महत्व –
यह बहुत कम लोग जानते हैं कि महामृत्युंजय मंत्र को भगवान शिव की मृत्युंजय के रूप में समर्पित हैं। वहीं, इस मंत्र के बीज अक्षरों में विशेष शक्ति मौजूद है। इस मंत्र को ऋग्वेद का हृदय भी माना जाता है। जान लें कि मैडीटेशन के लिए इस मंत्र से बेहतर कोई और मंत्र नहीं होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस मंत्र की श्रद्धापूर्वक साधना करने से आपके जीवन में अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता तथा दुर्घटना आदि से भी बचाव होता है।

कैसे करें महामृत्युंजय मंत्र की साधना –
महामृत्युंजय मंत्र की साधना पूरे श्रद्धा, विश्वास और निष्ठा के साथ विधि-विधान से करना बहुत ज़रूरी होता है। शास्त्रों की मानें तो इस मंत्र का जाप शुक्ल पक्ष के सोमवार को भगवान शिव के मंदिर में कम से कम एक लाख बार किए जाने का विधान है। बता दें कि महामृत्युंजय मंत्र का जाप आप खुद कर सकते हैं या फिर किसी वेद पाठी ब्राह्मण की मदद भी ले सकते हैं।

ध्यान रखें कि जब आप महामृत्युंजय मंत्र का जाप कर रहे हो तो उस समय भगवान शिव पर सफेद पुष्प, दूध, बेल पत्र, फल आदि अर्पित अवश्य करें। यही नहीं, भगवान शिव जी की पूजा में सभी तरह के सुगंधित पुष्प जैसे कि कनेर, धतूरा, कटेरी, अपराजिता, चम्पा, शीशम, पलाश, नीलकमल, केसर, बेला, गूलर, जयंती, नागचम्पा, तगर, चमेली, गूमा आदि चढ़ाए जा सकते हैं। वहीं कुच पुष्प जैसे कि केतकी, कदम्ब, कपास, जूही, गाजर, सेमल, अनार, मदंती, कैथ, बहेड़ा और केवड़े को चढ़ाना सख्त मना है।

महामृत्युंजय मंत्र जाप का लाभ
महामृत्युंजय मंत्र एकलौता ऐसा मंत्र है, जिसके जाप से साधक की अकाल मृत्यु से रक्षा होती है। अरिष्ट और अनिष्ट को दूर करने के लिए भी इस मंत्र का जाप आप कर सकते हैं। वहीं, शनि ग्रह के अशुभ प्रभाव, शनि की साढ़ेसाती अथवा ढैया के अशुभ फल कम करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जप ज़रूर से करना चाहिए। यही नहीं, रोगों की शांति और जीवन में प्रसन्नता की प्राप्ति के लिए भी इस मंत्र से बढ़कर कुछ और नहीं है।

Leave a Comment