धर्मं

राउरकेला…वेदव्यास ने लिखी थी यहाँ महाभारत

राउरकेला…वेदव्यास ने लिखी थी यहाँ महाभारत

नई दिल्ली : ओड़िसा के उत्तरी हिस्से में स्थित है एक शहर राउरकेला। यह शहर पर्यटन के लिए भी जाना जाता है। इस खास लेख में जानिए राउरकेला के प्रसिद्ध स्थानों के बारे में।

वेदव्यास मंदिर
राउरकेला भ्रमण की शुरवात आप यहाँ के प्रसिध्द वेदव्यास मंदिर से कर सकते है। वेदव्यास जी ने ब्राह्मणी नदी के तट पर अनेक हिन्दू महकाव्योंकी रचना की जिसमे से महाभारत एक है। अब वहा तिन इमारते है जिसमे एक स्कूल ,आश्रम और गुफाएं शामिल है जहा महाभारत लिखी गई। यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थान है। और विशेषतः जो सांस्कृतिक इतिहास में दिलचस्पी रखते है उन्हें यहाँ जरूर आना चाहिए।

वैष्णो देवी मंदिर
वैष्णो देवी मंदिर
यह मन्दिर 2007 में आम लोगोंके लिए खोला गया था। हिन्दू त्यौहार जैसे होली, दिवाली दशहराके दौरान यहाँ भव्य आयोजन होता है। वेदव्यास मंदिर के अलावा आप इस मंदिर भी जा सकते है। यह मूल वैष्णो देवी मंदिर की प्रतिकृति है यह मंदिर एक पहाड़ी पर स्थित है जो पूरे शहर के अद्भुत दृश्य पेश करता है।

रानी सती मंदिर
रानी सती मंदिर
रानी सतीमंदिर झुन-झुन धाम के नाम से भी पहचाना जाता है जो 2 एकड़ में फैला है। मंदिर स्थल की उत्पत्ति अज्ञात है लेकिन संरचना का पुनर्निर्माण तीन बार किया गया। एक अलग अनुभव पाने के लिए यहाँ अपने परिवार और दोस्तोंके जरूर आये।

डार्जिंग डार्जिंग
ब्राह्मणी नदी के तट पर स्थित, डार्जिंग राउरकेला के पास एक प्रसिद्ध पिकनिक स्पॉट है। इस स्थल को हरे-भरे परिवेश के रूप में चिह्नित किया गया है, इसलिए यहां आप वीकेंड पर सैलालियों का अच्छा खासा जमावड़ा देख सकते हैं।

हनुमान वाटिकाहनुमान वाटिका
पौराणिक मान्यताओ के अनुसार यहाँ प्राचीन काल में भगवान हनुमान रहा करते थे। इस स्थान का सांस्कृतिक महत्व देखते हुए ओड़िसा सरकार ने इसका पुनर्निर्माण करवाया और जनता के लिए खोल दिया। यहाँ बगीचे में विभिन्न हिन्दू देवताओंके मंदिर मौजूद है जिनके मध्य में भगवान हनुमान की मोनोलिथिक 22.8 मीटर लंबी मूर्ति बनी हुई है,जो यहां आने वाले सैलानियों को बहुत हद तक प्रभावित करती है।

Image result for rourkela odisha
इस्पात नगर
ओडिशा के उत्तरी हिस्से में स्थित राउरकेला एक योजनाबद्ध शहर है, यह राज्य के तीसरे सबसे बड़े शहरी समूह में गिना जाता है। राउरकेला राज्य के राजधानी शहर भुवनेश्वर से 340 किमी की दूरी पर पहाड़ियों की एक बड़ी श्रृंखला और नदियों से घिरा हुआ है। यह शहर इस्पात नगर के रूप में भी जाना जाता है। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड के सबसे बड़े इस्पात संयंत्रों में से एक है राउरकेला स्टील प्लांट की अपनी एक अलग पहचान है।

Leave a Comment