खेल

अगली पीढ़ी को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनने में दो साल लगेंगे: मिताली

अगली पीढ़ी को अंतरराष्ट्रीय स्तर का बनने में दो साल लगेंगे: मिताली

भारतीय महिला वनडे टीम की कप्तान मिताली राज ने आज स्वीकार किया कि यह वास्तविकता है कि टीम के पास बेहतर ‘बेंच स्ट्रेंथ’ नहीं है और अगली पीढ़ी की खिलाडिय़ों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी बनने में अभी कम से कम दो वर्ष का समय लगेगा। भारतीय महिला टीम को हाल में आॅस्ट्रेलिया ने तीन वनडे मैचों की श्रृंखला में 0-3 से करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा लेकिन सबसे बड़ी चिंता का विषय लचर प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों का स्थान लेने के लिए कोई अन्य विकल्प नहीं होना है।

दूसरी पीढ़ी की खिलाडिय़ों को तैयार होने में दो साल का वक्त लगेगा
भारत ए टीम ने आॅस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के खिलाफ कुछ अभ्यास मैच खेले लेकिन इनमें उसे करारी शिकस्त झेलनी पड़ी जिससे रिजर्व बेंच को गंभीर सवाल पैदा हो गए हैं। जेमिमा रोड्रिग्स को छोड़कर महिलाओं में कोई अच्छी प्रतिभा उभरकर नहीं आई है। मिताली ने कहा, ‘‘हमने अभी भारत ए के दौरे शुरू किए हैं और पिछले साल विश्व कप से लौटने के बाद ‘ए’ टीम का गठन किया गया। इसमें कुछ समय लगेगा। दूसरी पीढ़ी की खिलाडिय़ों को तैयार होने में दो साल का वक्त लगेगा।’’ उनका मानना है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने से वे बेहतर खिलाड़ी बनेंगी।

कुछ युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को अधिक से अधिक मैच खेलने की जरूरत
मिताली ने कहा, ‘‘हमारे पास कुछ युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं लेकिन उन्हें अधिक से अधिक मैच खेलने की जरूरत है। इसलिए मुझे पूरा विश्वास है कि एक या दो साल में हमारे पास भारत ए की तरफ से खेलने वाली बेहतर खिलाड़ी होंगी।’’ भारत ने भले ही इंग्लैंड में विश्व कप सेमीफाइनल में आॅस्ट्रेलिया को हराया लेकिन मिताली ने स्वीकार किया कि आॅस्ट्रेलियाई महिला टीम उनसे हर विभाग में बेहतर है। उन्होंने कहा, ‘‘बड़ौदा में (तीन वनडे मैचों के दौरान) हमने जिस आॅस्ट्रेलियाई टीम का सामना किया वह हमसे हर विभाग में बेहतर थी।’’

दक्षिण अफ्रीका में टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया
मिताली ने कहा कि भारत की दक्षिण अफ्रीकी सरजमीं पर दो जीत की तुलना घरेलू सरजमीं पर हार से नहीं की जानी चाहिए क्योंकि परिस्थितियां और प्रतिद्वंद्वी दोनों ही पूरी तरह से भिन्न थे। उन्होंने कहा, ‘‘दक्षिण अफ्रीका में टीम ने अच्छा प्रदर्शन किया तथा जब हमने दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया तो परिस्थितियां पूरी तरह से भिन्न थी।’’ मिताली ने महिला क्रिकेटरों को अनुबंध देने के बीसीसीआई के फैसले का भी स्वागत किया। उन्होंने कहा कि खिलाडिय़ों को अब अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहिए क्योंकि उन्हें अब इसके लिये अच्छा भुगतान मिलता है।

Leave a Comment