टेक्नोलॉजी

सच होने से पहले ही टूट गया भारतीय रेलवे का सपना ’’ टी-18’’, जानें इस ट्रेन के बारे में…

सच होने से पहले ही टूट गया भारतीय रेलवे का सपना ’’ टी-18’’, जानें इस ट्रेन के बारे में…

नई दिल्ली। भारत में काफी लंबे समय से टी-18 ट्रेन के चलने का इंतजार किया जा रहा है। लोगों को यह उम्मीद है कि यह ट्रेन भारतीय रेलवे को नही पहचान देगी, लेकिन इसे देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि यह ट्रेन ट्रॉयल के दौरान ही फेल साबित हुई।

आपको बताते चले कि चेन्नई के जिस इंटीग्रल कोच फैक्ट्री के इलेक्ट्रिक ट्रैक पर टी-18 का ट्रायल चल रहा था वहां हाई वोल्टेज के कारण ट्रेन के कई पुर्जे जलकर ख़ाक हो गए। मिली जानकारी के मुताबिक इस हादसे के बाद टी-18 को इलेक्ट्रिकल इंजन लगाकर चेन्नई से दिल्ली के सफदरगंज स्टेशन पहुंचा दिया गया।

इस फेल ट्रायल में टी-18 ट्रेन के कई पुर्जे जलकर ख़ाक हो गए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यह हादसा चेन्नई मंडल के अन्नानगर के पास ट्रेन के ट्रायल के दौरान 4 और 5 नवंबर को हुआ था।

जानें इस ट्रेन के बारे में…

टी-18 यानी ट्रेन-18 देश की पहली ऐसी ट्रेन है जिसमें अलग से इंजन का डिब्बा नहीं लगा है बल्कि इसके कई कोच ऐसे हैं जो सेल्फ़ पावर्ड हैं। खबर यह भी है कि शताब्दी ट्रेन को रिप्लेस करने वाली इस ट्रेन 18 का अब से एक डेढ़ महीने तक ट्रायल होगा, जिसके बाद ये पटरियों पर दौड़ने के लिए तैयार होगी। ये भारत की पहली ऐसी ट्रेन है जिसमें अलग से कोई इंजन नहीं है। बल्कि इसमें ऐरो डायनामिक ड्राइवर कोच होगा।

Article सच होने से पहले ही टूट गया भारतीय रेलवे का सपना ’’ टी-18’’, जानें इस ट्रेन के बारे में… took from Puri Dunia | पूरी दुनिया.

Leave a Comment