टेक्नोलॉजी

वोडाफोन और आइडिया का मिलन, हो सकती है 2500 कर्मचारियों की छुट्टी

वोडाफोन और आइडिया का मिलन, हो सकती है 2500 कर्मचारियों की छुट्टी

नई दिल्ली। वोडाफोन और आइडिया के एक दूसरे के साथ मिलाते ही कंपनी देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन गई है। साझेदारी के कारण कंपनी को अब 10 बिलियन का फायदा होगा। लेकिन कंपनी एक तरफ जहां टॉवर को किराए पर लेने का प्लान बना रही है तो वहीं अपने कर्मचारियों के हेडकाउंट को 15,000 लेवल तक रोकने की तैयारी कर रही है। लेकिन एक तरफ साझेदारी के कारण जहां वोडा आइडिया लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है तो वहीं अब कंपनी अपने 17,500- 18,500 स्टॉफ में से 2,500 लोगों की कटौती करने जा रही है।

वहीं एक हफ्ते वाली पुरानी कंपनी अपने कर्मचारियों के प्रमोशन और इंक्रिमेंट को भी कुछ दिनों के लिए रोक रही है। हालांकि वोडाफोन आइडिया ने इस बात से इंकार किया है। कंपनी का कहना है कि कर्मचारियों को लेकर ऐसी बात पूरी तरह से झूठ है।

कंपनी के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि वो अपने कर्मचारियों में कटौती आने वाले महीनों में करने वाली है जहां वो 2000 से लेकर 2500 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाने वाली है। ये किस बेसिस पर किया जाएगा फिलहाल कंपनी के पास इसका जवाब नहीं है। अधिकारी ने आगे बताया कि कर्मचारियों को नौकरी से निकालने से पहले अलग तरह के पैकेज दिए जाएंगे तो वहीं ये भी कोशिश होगी की उन्हें उनके पेरेंट कंपनी आदित्य बिरला ग्रुप में ही शिफ्ट कर दिया जाए।

मर्जर से पहले ही वोडाफोन आइडिया ने करीब पांच हजार लोगों की छंटनी की थी। इसमें सैलरी का तीन गुना एक साथ दिया गया था। अब आगामी छंटनी भी इसी तरह से दी जा सकती है। पहले छंटनी किए गए कर्मचारियों को गोल्डन हैंडशेक दिया गया था। इसके साथ ही उन्हें भारी अमाउंट भी दिया गया था। बताया गया था कि 5 लाख मंथली सैलरी वाले कर्मचारियों को 25 लाख तक ऑफर किया गया था।

एक सप्ताह पुरानी कंपनी वोडाफोन आइडिया हेडकाउंट को कम करने के अलावा दूरसंचार के क्षेत्र में अग्रणी स्थान बनाए रखने के लिए भी बाकी कंपनियों से प्रतिस्पर्धा की तैयारी करेंगी। फिलहाल एयरटेल दोनों कंपनियों के मर्जर के बाद भी टक्कर देता नजर आ रहा है। पहले स्थान पर बरकरार रहने के लिए वोडाफोन आइडिया को एयरटेल से कड़ी टक्कर मिल रही है।

Leave a Comment