दुनिया

NATO के महासचिव ने सात रूसी राजनयिकों के निष्कासन की घोषणा की

Nato's general secretary announced the Expulsion of seven Russian diplomats

NATO के महासचिव येंस स्टोलटेनबर्ग ने सात रूसी राजनयिकों के निष्कासन की घोषणा की है.
उन्होंने कहा है कि तीन अन्य रूसी राजनयिकों की मान्यता की अर्ज़ी भी ख़ारिज कर दी गई है और ये फ़ैसला रूस को ये स्पष्ट संदेश देने के लिए किया गया है कि रूस जो व्यवहार कर रहा है उसे उसकी क़ीमत चुकानी पड़ेगी.
NATO के इस फ़ैसले से पहले 27 देश भी बीते दो दिनों में 140 से ज़्यादा रूसी राजनयिकों को निष्कासित कर चुके हैं.
इन सभी देशों का मानना है कि ब्रिटेन में रह रहे पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रिपल और उनकी बेटी यूलिया पर रूस ने 4 मार्च, 2018 को नर्व एजेंट से हमला करवाया.
रूस इन सभी आरोपों को बेबुनियाद बताता रहा है. साथ ही रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोफ़ ने कहा है कि नेटो की इस प्रतिक्रिया के पीछे अमरीका की ब्लैकमेल करने की नीति है.
NATO के रूसी राजनयिकों को निष्कासित करने के फ़ैसले के बाद नेटो में रूसी प्रतिनिधिमंडल अब एक तिहाई ही रह जाएगा.
NATO ने और क्या कहा?
संस्था की प्रवक्ता ओआना लंगेस्चू ने बीबीसी से कहा है कि रूस के ख़तरनाक रवैये के जवाब में ये फ़ैसला लिया गया. उन्होंने कहा कि बीते सालों में रूस ने NATO के कई सदस्य देशों को निशाना बनाया है.
उन्होंने कहा, “हमने क्राइमिया पर अवैध क़ब्ज़ा देखा है. पूर्वी यूक्रेन को लगातार अस्थिर किए जाते हुए देखा है. साथ ही आर्कटिक से लेकर मध्य-पूर्व और भूमध्यसागर तक सेना का बड़ा जमावड़ा भी देखा है. हमने साइबर हमलों के ज़रिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया में दख़ल भी देख लिया. इसलिए ये बीते कई सालों में स्थापित एक व्यापक पैटर्न बन गया है. इसलिए रूस के लिए ये संदेश ज़रूरी है.”
अमरीका की प्रतिक्रिया?
इसी बीच व्हाइट हाउस ने कहा है कि बीस से अधिक पश्चिमी देशों से रूसी राजनयिकों को निकाले जाने के फ़ैसले का समर्थन बढ़ रहा है.
व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सारा हकाबी सांडर्स ने कहा, “हम पहले भी कह चुके हैं कि अमरीका रूस के साथ बेहतर रिश्ते स्थापित करना चाहता है लेकिन रूस की सरकार को ये भी समझना होगा कि उसके अस्थिर करने वाले क़दमों के गंभीर परिणाम होंगे. लगातार बढ़ रहे इस अंतर्राष्ट्रीय दबाव से ये और भी स्पष्ट हो गया है कि रूस के साथ रिश्ते तब ही बेहतर हो सकते हैं जब उसकी सरकार अपना रवैया बदल ले.”
रूस का पक्ष
बीबीसी से बातचीत में रूस के राजनेता और विदेश मामलों की संघीय समिति के अध्यक्ष कॉन्सटेटिन कोसाचेव ने कहा है कि उन्हें लगता है कि ब्रितानी सरकार ने अपने अंतर्राष्ट्रीय सहयोगियों को ब्लैकमेल कर राजनयिकों को निष्कासित करवाया है.
कोसाचेव ने कहा कि अगर किसी को लगता है कि वो रूस की विदेश नीति को बदल सकते हैं, रूस के नेतृत्व को बदल सकते हैं, रूस के नागरिक समाज और सत्ता के बीच फ़ासला पैदा कर सकते हैं तो वो पूरी तरह ग़लत हैं और वो रूस को समझते ही नहीं.
-BBC

Article NATO के महासचिव ने सात रूसी राजनयिकों के निष्कासन की घोषणा की took from Legend News: Hindi News, News in Hindi , Hindi News Website,हिन्‍दी समाचार , Politics News – Bollywood News, Cover Story hindi headlines,entertainment news.

Leave a Comment