दुनिया

आबे से मिलीं सुषमा, कहा- जापान से दिल का रिश्ता हैं

टोक्यो : भारत और जापान द्विपक्षीय साजनिर्वक-निजी संवाद की रूपरेखा तैयार करने और समुद्री सुरक्षा को लेकर अग्रिम सहयोग को विस्तार देने के लिए नयी भारत-प्रशांत वार्ता शुरू करेंगे। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और जापान के विदेश मंत्री तारो कोनो ने शुक्रवार को यहां एक बैठक में इस पर सहमति जतायी। जापानी न्यूज एजेंसी क्योडो ने श्री कोनो के हवाले से बताया कि भारत के विकास में जापान कई दशकों से साझीदार रहा है। कोनो ने कहा कि, हम भारत-प्रशांत क्षेत्र में संपर्कों को मजबूती देने के साथ ही क्षेत्रीय विकास के समर्थन में निरंतर सक्रिय रहेंगे। श्रीमती स्वराज ने कहा कि भारत-प्रशांत क्षेत्र में शांति, स्थिरता और संप्रभुता के लिए आर्थिक मोर्चे पर भारत एवं जापान के बीच सामंजस्य महत्वपूर्ण है। इससे पहले श्रीमती स्वराज ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से श्री आबे को शुभकामनाएं दीं। श्रीमती स्वराज नौंवी भारत-जापान सामरिक वार्ता में शामिल होने के लिए जापान दौरे पर हैं।

Leave a Comment