दुनिया

व्यापार युद्धः अमेरिका ने लगाया चीनी उत्पादों पर 25 % आयात शुल्क, चीन ने भी दी चेतावनी

बीजिंगः अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी व्यापार घाटे में कटौती करने के लिए चीन से आने वाले 50 बिलियन डॉलर के सामग्रियों पर 25 प्रतिशत आयात शुल्क लगा दिया है। इसके बाद से अब दोनों देशों के बीच व्यापार युद्ध छिड़ने की संभावना बढ़ गई हैं। अपने इस फैसले पर ट्रंप ने कहा कि वह उन्होंने यह कदम चीन के अनुचित व्यापार व्यवहार के तौर-तरीकों को देखते हुए उठाया है। इसके साथ ही उन्होंने चीन पर अमेरिकी प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा को कमजोर करने का आरोप लगाया है। वहीं, चीन ने भी इसका समुचित जवाब अमेरिका को दिया है। उसने चेतावनी दी है कि अमेरिका ने अपने कदम पीछे नहीं हटाए तो वह आगे आवश्यक कदम उठा सकता है।
ट्रंप ने कहा क‌ि सभी को पता है कि हमारे पास सिलिकॉन वैली में महान दिमागी शक्ति है और चीन के साथ ही दूसरे लोग उन रहस्यों को चुरा रहे हैं। हम उन सेक्रेट चीजों को बचाने के लिए कदम उठा रहे हैं। चीन ने अपने अनुचित बाजार में सुधार लाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। हालांकि ट्रंप का यह फैसला अमेरिकी नागरिकों के लिए भी उल्टा साबित हो सकता है। जब डोनाल्ड ट्रंप से पूछा गया कि क्या इससे दोनों देशों के बीच व्यापार युद्ध नहीं होगा तो उन्होंने कहा कि कोई व्यापार युद्ध नहीं है। उन्होंने पहले ही बहुत ज्यादा ले लिया है। ट्रंप ने कहा कि कर लगाए जाने वाले उत्पादों में चीन की मेड इन चीन 2025 से जुड़ी रणनीतिक योजना के तहत आने वाले सामान शामिल हैं। इसका मकसद उभरती उच्च प्रौद्योगिकी उद्योगों पर दबदबा बनाना है। जिससे चीन को तो आर्थिक वृद्धि मिलेगी लेकिन इससे अमेरिका सहित दूसरे देशों की आर्थिक वृद्धि प्रभावित होगी।विशेषज्ञों का मानना है कि इस कदम से व्यापार युद्ध बढ़ेगा और इसका असर विश्व के अन्य देशों पर भी होगा।
6 जुलाई से लागू होगा
अमेरिकी सरकार द्वारा लगाए गए शुल्क को 6 जुलाई से लागू कर दिया जाएगा। प्रशासन 284 अतिरिक्त चीनी उत्पादों को भी लक्षित करेगा। ट्रंप का कहना है कि फिलहाल अमेरिका का चीन के साथ व्यापार घाटा 370 अरब डॉलर से ज्यादा का है। ट्रंप ने ड्रैगन को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि उसके द्वारा जवाबी कार्यवाही की जाती है तो वह और अतिरिक्त शुल्क लगाएंगे। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उनकी चीनी राष्ट्रपति शी चिनपिंग के साथ दोस्ती और चीन के साथ अमेरिका के रिश्ते दोनों काफी महत्वपूर्ण हैं।

Leave a Comment